अंततः सक्रिय राजनीति में प्रियंका गांधी, बनीं महासचिव, मिली पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी

चैतन्य भारत न्यूज। लोकसभा चुनाव 2019 से ऐन पहले कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को आधिकारिक तौर पर राजनीति के मैदान में उतार दिया है। कांग्रेस ने प्रियंका को पार्टी का महासचिव बनाया बनाते हुए उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी है। प्रियंका यह जिम्मेदारी फरवरी 2019 के पहले सप्ताह से संभालेंगी। आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए प्रियंका गांधी के सक्रिय राजनीति में प्रवेश को ट्रंप कार्ड के रूप में देखा जा रहा है। प्रियंका के अलावा मध्य प्रदेश के गुना- शिवपुरी से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को भी महासचिव के रूप में पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जिम्मेदारी दी गई है।

प्रियंका गांधी की नियुक्ति पर उनके भाई और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि प्रियंका और ज्योतिरादित्य सिंधिया उत्तर प्रदेश के युवाओं के सपनों को पूरा करेंगे। प्रियंका गांधी के आने से कांग्रेस की विचारधारा उत्तर प्रदेश में आएगी। प्रियंका एक कर्मठ और काबिल नेतृत्व देने में सफल होंगी। मुझे ख़ुशी है कि वे अब मेरे साथ काम करेंगी।

राहुल गांधी ने कहा कि प्रियंका और ज्योतिरादित्य को दो महीने के लिए उत्तर प्रदेश नहीं भेजा है। मैंने इस मिशन के साथ दोनों को उत्तर प्रदेश भेजा है कि सबके विकास के लिए वो काम करें। हम उत्तर प्रदेश की जनता को कहना चाहते हैं कि आपने अब बहुत समय गंवाया है। अब आप बीजेपी को हटाइए। हम उप्र को नंबर-1 प्रदेश बनाएंगे।

राहुल गांधी ने यह भी कहा कि मैं अखिलेश और मायावतीजी का भी सम्मान करता हूं। उनके लिए दरवाजे हमेशा खुले हैं।

प्रियंका के चुनाव लड़ने के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि ये उनके ऊपर है। हम कहीं भी बैकफुट पर नहीं खेलेंगे। जहां मौका मिलेगा हम फ्रंटफुट पर खेलेंगे। प्रियंका के पति रॉबर्ट वाड्रा ने भी प्रियंका को बधाई दी है। सोशल मीडिया पर उन्होंने कहा- बधाई पी…मैं तुम्हारी ज़िंदगी के हर क़दम पर तुम्हारे साथ हूं। अपना बेहतरीन देना।

कई अहम फेरबदल
प्रियंका की नियुक्त के साथ ही कांग्रेस पार्टी ने संगठन में कई अहम फेरबदल किए हैं। गुलाम नबी आजाद को उत्तर प्रदेश से हटाकर अब हरियाणा की ज़िम्मेदारी दी गई है। कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल को तत्काल प्रभाव से कांग्रेस का संगठन महासचिव बनाया गया है। वेणुगोपाल ने अशोक गहलोत की जगह ली है।

अब तक केवल मां और भाई के निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार किया
प्रियंका गांधी अब तक अमेठी में राहुल गांधी और रायबरेली में सोनिया गांधी के चुनाव प्रचार की ज़िम्मेदारी संभालती थीं।

कांग्रेस नेता राजीव शुक्ला ने कहा कि इससे कांग्रेस पार्टी को न केवल उत्तर प्रदेश में बल्कि पूरे देश में राजनीतिक रूप से फायदा होगा।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा- हर जगह से नकारे जाने के बाद अब बैसाखी परिवार के भीतर ही खोजी जा रही है। भाजपा और कांग्रेस में एक बुनियादी फ़र्क़ है। बीजेपी में पार्टी ही परिवार है लेकिन कांग्रेस में परिवार ही पार्टी है।

Related posts