आतंकवादी जीशान को प्रयागराज लेकर आएगी स्पेशल सेल

पाकिस्‍तान से ट्र‍ेनिंग लेकर आतंकी गतिविधियाें में था शामिल

पाकिस्तान में आतंक का ककहरा सीखने वाले आतंकी मो. जीशान कमर को जल्द ही प्रयागराज लाया जाएगा। उससे इंप्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आइईडी) को बनाने और उसमें मदद करने वालों का भी चेहरा दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल बेनकाब करेगी। अभियुक्त को कस्टडी रिमांड मिलने के बाद प्रयागराज लाकर छानबीन करने की कवायद तेज हो गई है।

पाकिस्‍तान में हथियार चलाने व बम धमाका करने की ट्रेनिंग ली थी

सूत्रों का कहना है कि आतंकी जीशान कमर और ओसामा स्पेशल सेल की हिट लिस्ट में है। दोनों को पाकिस्तान में हथियार चलाने और बम धमाका करने की 15 दिन की ट्रेनिंग दी गई थी। जीशान को प्रयागराज समेत कई अन्य जिलों में विस्फोट करने और हथियार जुटाने की जिम्मेदारी दी गई थी।

स्‍पेशल सेल जीशान के चिट्ठे का पता लगाने की कोशिश कर रही है

इस आधार पर स्पेशल सेल यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आतंकी जीशान ने किस-किस स्थान को धमाके के लिए चिह्नित किया था। अपने आकाओं के कहने पर वह किस तरह की तैयारी कर रहा था और इसके लिए कितने लोगों से संपर्क किया था। स्लीपिंग माड्यूल को विस्तार देने के लिए उसने क्या माध्यम और कौन सा रास्ता अपनाने का प्लान बनाया था। इस बारे में उससे विस्तृत पूछताछ हो रही है। यह भी कहा जा रहा है कि अब तक की छानबीन में कई जानकारी हाथ लगी है। आतंकी के लैपटाप और पेन ड्राइव से कुछ सुराग मिले हैं, जिसके जरिए जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है। जीशान ने कुछ लोगों के नाम भी बताए हैं, जिनके बारे में साक्ष्य जुटाए जा रहे हैं।

सूत्रों का यह भी कहना है कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने एक शख्स को वांछित भी घोषित किया है, लेकिन उसका नाम सार्वजनिक नहीं किया गया है। वह व्यक्ति भी करेली इलाके का ही रहने वाला है और जीशान की गिरफ्तारी के बाद से फरार चल रहा है। ऐसे ही कुछ और अहम जानकारी मिली है, जिसकी पुष्टि के बाद स्पेशल सेल आतंकी जीशान को लेकर प्रयागराज आएगी। फिर उसकी निशानदेही पर कुछ और हथियार की बरामदगी हो सकती है। मंगलवार को आतंकवाद निरोधक दस्ता (एटीएस) ने करेली के जीटीबी नगर निवासी जीशान को गिरफ्तार किया था। उसके बाद से पूरे जिले में खलबली मची हुई है।

सूत्रों के अनुसार आतंकी जीशान कमर ओसामा स्पेशल सेल की हिट लिस्ट में हैं। दोनों को पाकिस्तान में हथियार चलाने और बम धमाका करने की 15 दिन की ट्रेनिंग दी गई थी। जीशान को प्रयागराज समेत कई अन्य जिलों में विस्फोट करने और हथियार जुटाने की जिम्मेदारी दी गई थी।

Related posts