इलाहाबाद हाईकोर्ट की सुरक्षा में तैनात आठ पुलिसकर्मी निलंबित

इलाहाबाद हाईकोर्ट की सुरक्षा में तैनात आठ पुलिसकर्मियों को लापरवाही बरतने पर मंगलवार को निलंबित कर दिया गया। हाईकोर्ट परिसर के अंदर प्रवेश पर प्रतिबंध के बाद भी इन पुलिसकर्मियों की लापरवाही से कुछ वकील अंदर चले गए। वे चीफ जस्टिस की कोर्ट तक पहुंच गए। बाहर हो हल्ला भी हुआ था। 

इस प्रकरण में सीआरपीएफ के जवानों की लापरवाही भी सामने आई है। सीआरपीएफ के अफसर उनके खिलाफ विभागीय जांच करा रहे हैं। बताया जा रहा है कि दो जनवरी को हाईकोर्ट ने तीन जनवरी से केवल वर्चुअल सुनवाई का आदेश जारी किया था। 

सुरक्षाकर्मियों को निर्देशित किया गया था कि तीन जनवरी से कोई भी अधिवक्ता अंदर प्रवेश नहीं करेगा, लेकिन सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही सामने आई। सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों को सही से गाइड नहीं किया गया। नतीजतन तीन जनवरी को हाईकोर्ट गेट नंबर तीन से अधिवक्ताओं का एक ग्रुप अंदर प्रवेश कर गया। 

बताया जा रहा है कि उन्होंने हाईकोर्ट के अंदर जाकर नारेबाजी की। परिसर में प्रवेश पर रोक का विरोध जताते हुए ये वकील चीफ जस्टिस की कोर्ट तक पहुंच गए। इस घटना पर हाईकोर्ट प्रशासन ने पुलिस को जमकर फटकार लगाई। इसके बाद सुरक्षा में चूक होने पर जांच का आदेश हो गया।

जांच में पता चला कि हाईकोर्ट गेट नंबर तीन पर ड्यूटी पर लगे दरोगा छेदी राम, दीवान मो. इशराफिल ने प्रतिबंध की सूचना सही से प्रसारित नहीं की थी। इसके अलावा हाईकोर्ट के अंदर ड्यूटी पर लगे दरोगा सूर्य नारायण पांडेय और अन्य पुलिसकर्मियों ने भी गंभीरता नहीं दिखाई। लापरवाही बरतने पर इन आठों पुलिसकर्मियों को मंगलवार को निलंबित कर दिया गया।

Related posts