जन-जन के आदर्श हैं प्रभु श्रीराम : महंत बलवीर गिरि

पत्थरचट्टी रामलीला कमेटी परिसर रामबाग में गुरुवार को नौ दिन सुनिए राम कथा का शुभारंभ हुआ। श्री रामचरित मानस सम्मेलन समिति मुट्ठीगंज की ओर से आयोजित रामकथा का शुभारंभ मुख्य अतिथि बाघंबरी गद्दी के महंत बलवीर गिरि ने गोस्वामी तुलसीदास के चित्र पर माल्यार्पण और दीप जलाकर किया। उन्होंने कहा कि भगवान राम जन-जन के आदर्श हैं। जगत के वंदनीय हैं। भगवान राम का हर रूप वंदनीय है। वह चाहे एक पुत्र, शिष्य, भाई, नागरिक व मित्र के रूप में क्यों न हो। प्रभु राम ने सदा मर्यादित जीवन का पालन किया।

जौनपुर की कथावाचिका दीपा मिश्रा ने कहा कि राम की कथा जानने के लिए कथा श्रवण करना चाहिए। इससे आचरण में पवित्रता का भाव पैदा होता है। केवट, शबरी, जटायु, सुग्रीव, विभीषण पर राम की कृपा हुई इसलिए उनका जीवन धन्य हो जाएगा। संत कपिल कुमार शर्मा ने भी विचार रखे। कथावाचक अरुण गोस्वामी, पं. राम अचल व्यास, पं. अंजनी शरण सावर्णी ने रामकथा की संगीतमय प्रस्तुति की। अध्यक्षता व संचालन लल्लूलाल गुप्त सौरभ ने किया। पं. मुकेश पाठक, धर्मेन्द्र कुमार, मीडिया प्रभारी राजीव गुप्ता, अशोक कुमार, उमालाल मौजूद रहे।

Related posts