नरेंद्र गिरी मौत के दो माह बाद नहीं मिला ठोस सुबूत, 100 संदिग्धों से हो चुकी है पूछताछ, चार्जशीट भी नहीं हो सकी दाखिल

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष व बाघम्बरी मठ के महंत रहे नरेंद्र गिरी की संदिग्ध मौत 20 सितंबर 2021 को हुई थी। आज 60 दिन पूरे हो चुके हैं, इस मामले की जांच कर रही सीबीआई के हाथ अभी भी कोई ठोस सुबूत नहीं लगा, जबकि इस मामले में जेल में बंद आनंद गिरी, आद्या तिवारी व संदीप तिवारी पिछले 50 दिन से न्यायिक हिरासत में हैं। ठोस सुबूत नहीं मिलने की वजह से कोर्ट में चार्जशीट भी दाखिल नहीं कर सकी है। वहीं सीबीआई ने 100 से अधिक संदिग्ध लोगों से पूछताछ कर चुकी है।

100 से अधिक लोगों के बयान दर्ज

सीबीआई घटना से जुड़े सभी पहलुओं की बारीकी से जांच पड़ताल कर रही है। मठ, मंदिर और महंत नरेंद्र गिरि के करीबियों के साथ-साथ तीनों आरोपियों से जुड़े व्यक्तियों समेत लगभग 100 से अधिक लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। हालांकि, जिस आपत्तिजनक वीडियो का जिक्र सुसाइड नोट में महंत नरेंद्र गिरि ने किया था, सीबीआई अभी तक आनंद गिरि या उनके किसी करीबियों के पास से बरामद नहीं कर सकी है।

सुबूत का आभाव, नहीं दाखिल हो सकी चार्जशीट

सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर मामले की जांच एसआईटी को दी गई थी, लेकिन संतों की मांग को देखते हुए बाद में सीएम योगी ने सीबीआई से महंत नरेंद्र गिरि मौत मामले की जांच की संस्तुति कर दी। आनंद गिरी सहित तीन आरोपी पिछले 50 से भी ज्यादा दिनों से न्यायिक हिरासत में है। सीबीआई अभी तक इनके खिलाफ ठोस सुबूत नही मिलने की वजह से चार्जशीट भी दाखिल नहीं कर सकी है।

क्या आडियो से खुल सकेगा मौत का राज

आनंद गिरी, आद्या तिवारी व संदीप तिवारी आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में की सलाखों के पीछे हैं पर CBI अभी तक उनके खिलाफ भी कोई ठोस सुबूत नहीं जुटा पाई है। न वो महिला सामने लाई जा सकी और न ही वो कथित सीडी। वहीं सीबीआई के हाथ एक आडियो लगी है, जो नरेंद्र गिरी के संदिग्ध मौत के पहले की बतायी जा रही है, जिसमे नरेंद्र गिरी को लेकर बातचीत की जा रही है। इस वाइस सैंपल की जांच के लिए सीबीआई टीम के विशेषज्ञों ने आनंद गिरी की आवाज का नमूना लिया है, अब देखना यह है कि क्या यह नमूना मौत की असली वजह तक पहुंचा पाएगा।

कैसे बन गए करोड़पति इसकी भी हो जांच

आनंद गिरी के अधिवक्ता विजय द्विवेदी ने कहा कि छोटे महंत यानी आनंद गिरी बार-बार कह रहे हैं कि गुरुदेव आत्महत्या नहीं कर सकते, उनकी हत्या हुई है। उन्होंने आरोप लगाया है कि इसकी भी जांच होनी चाहिए कि कैसे 8 से 10 हजार रुपये पाने वाला व्यक्ति दो साल में करोड़पति बन गया है। इन लोगों का भी नार्को टेस्ट किया जाए तो तस्वीर साफ हो सकती है।

ये सवाल अभी भी अनुत्तरित हैं

  • नरेंद्र गिरि ने 3 बार वसीयत क्यों बदली?
  • सुसाइड नोट पर दस्तखत तो नरेंद्र गिरि के थे पर क्या सुसाइड नोट खुद लिखा या किसी से लिखवाया?
  • दो बिल्डरों को 25-25 लाख रुपये क्यों दिए थे? उनके साथ महंत के रिश्ते कैसे थे?
  • जिस दिन महंत ने सुसाइड किया हरिद्वार से आने वाले किस व्यक्ति का इंतजार कर रहे थे?
  • हरिद्वार से जो लाखों रुपये मठ में आए थे वो किसने और क्यों भेजे थे?
  • सुसाइड नोट में जिस महिला के साथ सीडी बनाने और उसको जारी करने की बात लिखी है वो महिला कौन थी और कहां है?
  • महिला की महंत नरेंद्र गिरि से रिश्ते कैसे थे? उसके और महंत के साथ सीडी बनाकर कौन ब्लैकमेल करना चाह रहा था?
  • CBI को अभी तक सीडी नहीं मिली है, तो क्या वह फर्जी बात थी, जिसको लेकर ब्लैकमेल करने की कोशिश हो रही थी।
  • महंत की मौत से सबसे ज्यादा फायदा किसको और क्यों होने वाला था?
  • नरेंद्र गिरि की मौत के बाद बलवीर पुरी को मठ का नया महंत बनाया गया है।

Related posts