नहीं थम रहा डेंगू का सिलसिला, प्रयागराज में 12 और लोग हुए बीमार

डेंगू रोग की रोकथाम के लिए जितने भी उपाए किए जा रहे हैं मच्छरों के डंक का प्रभाव उतना ही बढ़ता जा रहा है। जनपद में अब तक 381 लोगों को डेंगू वाले मच्छर डंक मार चुके हैं। सोमवार को भी 12 लोगों को डेंगू हो गया। गांव कस्बों की अपेक्षा शहर के इलाकों में डेंगू का सिलसिला तेज है। यह स्थिति तब है जब बारिश नहीं हो रही है, कहीं गमलों या छत पर रखे पात्रों में पानी इकट्ठा होने की गुंजाइश भी नहीं है। लोगों को खुद सचेत होना पड़ेगा वरना डेंगू के डंक से बचना मुश्किल होता जाएगा।

पैथोलाजी में भरे पड़े हैं डेंगू जांच के फार्म

पैथालाजी में डेंगू जांच के लिए पंजीकरण फार्म भरे पड़े हैं। सोमवार को चकिया, भुलई का पुरा, राजापुर, ऊंचवागढ़ी, तेलियरगंज, जार्जटाउन, झूंसी, हंडिया, जसरा और कोटवा बनी में एक-एक व रामनगर में दो लोगों को डेंगू हुआ। शहरी क्षेत्र में अब तक 270 और ग्रामीण में 111 लोगों को डेंगू हो चुका है। डेंगू से बचने के लिए घरों में हालांकि लोग सतर्क हैं फिर भी जिन्हें वायरल बुखार है उन्हें चिकित्सक डेंगू जांच के लिए लिख रहे हैं। यही वजह है कि सरकारी और निजी पैथालाजी में जांच के लिए पंजीकरण भरे पड़े हैं और जांच रिपोर्ट में डेंगू की पुष्टि भी लगातार हो रही है। हालांकि यह भी सच है कि पिछले महीने भर से ज्यादा वक्त से  लगातार जागरुकता की पहल से लोगों में अब घर में जमा पानी हटाने और डेंगू मच्छर पनपने से रोकने की चेतना आ रही है।

किया जा रहा है एंटी लार्वा का छिड़काव

जिला मलेरिया अधिकारी आनंद कुमार सिंह ने बताया कि जहां भी डेंगू के मरीज लगातार मिल रहे हैं वहां एंटी लार्वा का छिड़काव किया जा रहा है। घरों में भी टीम पहुंच रही है और पात्रों में इकट्ठा पानी को बहाया जा रहा है। कहाकि विभाग लगातार प्रयास कर रहा है लोग स्वयं भी सतर्क रहे।

Related posts