पहले दिन 1360 किशोरों को लगा कोरोना का टीका

कोरोना से बचाव के लिए सोमवार को किशोरों ने भी कदम आगे बढ़ाया। पहले दिन किशोरों का उत्साह कमाल का रहा। शहर से गांव तक टीका लगवाने की होड़ रही। 15 से 18 आयु वाले किशोरों ने लंबे इंतजार के बाद मिले अवसर का इस्तेमाल करने में कोई चूक नहीं की। पहले दिन जिले के 1361 किशोरों को कोरोना का टीका लगा। सबसे अधिक टीकाकरण मेडिकल कॉलेज में 303 हुआ। प्रदेश में प्रयागराज का 33वां स्थान रहा।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले में किशोरों का टीकाकरण 30 केंद्रों पर शुरू हुआ। मेडिकल कॉलेज, एसआरएन, बेली, डफरिन, काल्विन समेत दस केंद्र व 20 सीएचसी में अलग बूथ बनाकर टीकाकरण किया गया। प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. तीरथलाल के अनुसार टीकाकरण कराने में किशोर पीछे नहीं रहे। कुल 1361 को टीका लगा। मंगलवार से संख्या और बढ़ने की उम्मीद है।

हर सेंटर पर 50 का ऑनस्पॉट टीकाकरण :

स्वास्थ्य विभाग ने किशोरों की सुविधा के लिए हर सेंटर पर 50 का ऑनस्पॉट टीका लगाने की व्यवस्था की। प्रतिरक्षण अधिकारी ने बताया कि हर सेंटर को एक दिन में रोज दो सौ का लक्ष्य दिया गया है। 150 रजिस्ट्रेशन व 50 ऑनस्पॉट टीका लगाने की व्यवस्था की गई है। स्थायी तौर पर ऑनस्पॉट टीकाकरण की व्यवस्था पर विचार किया जा रहा है।

स्कूलों में जल्द लगेगा टीका :

प्रतिरक्षण अधिकारी के अनुसार स्कूलों में भी 15 से 18 साल तक की आयु के किशोरों को टीका लगाया जाएगा। इसके लिए स्कूल व मदरसा संचालकों से बातचीत चल रही है। उम्मीद है कि दस जनवरी से पहले स्कूलों व मदरसों में टीकाकरण शुरू किया जाएगा।

ओमीक्रोन होगा पस्त, व्यवस्था है दुरुस्त

15 से 18 आयु के किशोरों के टीकाकरण पर मोतीलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज सेंटर का निरीक्षण सांसद केसरी देवी पटेल ने किया। टीकाकरण कराने वाले किशोरों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने टीका लगवाने वाले बच्चों को किसी तरह की असुविधा न होने देने का ध्यान रखने को कहा। कहा कि ओमीक्रोन होगा पस्त व्यवस्था है दुरुस्त।

कोरोना के साथ जीना अब सीखना होगा :

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ यु्गांतर पांडेय के अनुसार कोरोना संक्रमण का पूरी तरह से खात्मा अभी संभव नहीं है। इसलिए बार-बार स्कूल, बाजार बंद करना ठीक नहीं है। हमें खुद के साथ बच्चों को कोरोना के साथ रहने के तरीके सीखने होंगे। मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग के साथ रहना होगा। किशोरों की तरह बच्चों के लिए भी टीका जल्द आने की उम्मीद जता रहे हैं।

Related posts