पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक ने भी दर्ज कराया केस, अब अग्रिम कार्रवाई की तैयारी

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) का प्रश्नपत्र लीक होने के मामले में अब परीक्षा नियामक प्राधिकारी की ओर से कर्नलगंज थाने में एफआइआर दर्ज कराई गई है। परीक्षा नियामक के उप रजिस्ट्रार प्रेम शंकर सिंह की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ साजिश रचने और परीक्षा निवारण अधिनियम के तहत रिपोर्ट लिखी गई है।

दर्ज कराई गई रिपोर्ट में कहा गया है कि टीईटी की परीक्षा से प्रारंभ होने से पूर्व स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के अधिकारियों द्वारा पेपर लीक होने की जानकारी विभाग को दी गई थी। पेपर लीक होने से विभाग और शासन की छवि धूमिल हुई है। साथ ही तमाम अभ्यर्थियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है।

पुलिस का कहना है कि उच्चाधिकारियों के आदेश पर और उप रजिस्ट्रार की तहरीर पर मुकदमा लिख कर विवेचना की जा रही है। जांच में जो भी नए साक्ष्य और तथ्य सामने आएंगे उसके आधार पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रसंघ की बहाली को लेकर चल रहा अनशन 495वें दिन भी जारी रहा। इस दौरान छात्र नेता अजय यादव सम्राट ने टीईटी का प्रश्नपत्र लीक होने पर नाराजगी जताई। अन्य छात्रों ने भी कहा कि यह विद्यार्थियों के साथ अन्याय है। आखिर भ्रष्टाचार का दीमक कहां कहां लग चुका है। इससे मुक्ति कैसे मिलेगी। इस पर मिलकर सभी को कार्य करना होगा। इस दौरान मंजीत पटेल, हरेंद्र यादव, अमित कुमार यादव, अक्षित कुमार, मसूद अंसारी, मोहम्मद सलमान, कौटिल्य मिश्रा, अभिषेक यादव, मुबाशिर हारून, राहुल पटेल, गोलू पासवान, शक्ति ङ्क्षसह आदि मौजूद रहे।

Related posts