प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी बायोपिक का क्रेज

प्रयागराज में 4 दिन में 35,000 लोगों ने देखा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बायोपिक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी बायोपिक हिट ही साबित हो रही है। इसके सभी शो फुल जा रहे हैं। केवल 4 दिन में पीवीआर में 35,000 से अधिक लोगों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक दिखाई जा चुकी है। क्रज इतना है कि इसे देखने वालों की लंबी लाइन भी लग रही है। आप भी जानें कि आखिर इस बायोपिक में ऐसा क्‍या है, जो लोगों को आकर्षित कर रहा है। 

प्रधानमंत्री के जन्‍मदिन पर पीवीआर में रिलीज हुई थी बायोपिक

प्रधानमंत्री के जन्मदिन पर प्रयागराज में पीवीआर सिनेमा हाल में पीएम के जीवन पर आधारित बायोपिक रिलीज हुई थी। उत्तर प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री व शहर दक्षिणी विधानसभा क्षेत्र से विधायक नंद गोपाल गुप्ता नंदी द्वारा शहर के लोगों को आमंत्रित कर निश्‍शुल्क प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक दिखाई जा रही है। इसे देखने के लिए पीवीआर में भारी भीड़ उमड़ रही है। कोरोना की दूसरी लहर के बाद पहली बार पीवीआर सिनेमा हाल में इतनी भीड़ उमड़ रही है।

यूपी के कैबिनेट मंत्री ने पीवीआर की चारों आडी बुक की

पीवीआर में पिछले कुछ दिनों से लोगों को प्रधानमंत्री की बायोपिक दिखाई जा रही है। पीवीआर की चारों आडी को कैबिनेट मिनिस्टर नंदी ने बुक किया है। कैबिनेट मंत्री लोगों को निश्‍शुल्क प्रधानमंत्री के जीवन पर बनी बायोपिक दिखा रहे हैं।

प्रधानमंत्री के संघर्ष की कहानी है बायोपिक

बायोपिक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन के संघर्षों की कहानी है। एक सामान्य परिवार में जन्म लेने से लेकर स्टेशन पर चाय बेचने और देश के सबसे बड़े संवैधानिक पद प्रधानमंत्री की कुर्सी तक पहुंचने की कहानी लोगों को काफी पसंद आ रही है। बायोपिक में नरेंद्र मोदी के पहाड़ों पर रह कर 20 वर्षों तक की गई तपस्या और कर्मयोगी बनने के पूरे सफर के साथ ही गुजरात का सीएम और फिर प्रधानमंत्री बनने के पूरे सफर व राजनीतिक उलटफेर को दिखाया गया है।

फिल्‍म में कांग्रेस और भाजपा का विवाद भी है

भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस के बीच चल रहे राजनीतिक विवाद और राजनीतिक चालों को भी बायोपिक में बखूबी दिखाया गया है। सभी शो बुक करके न सिर्फ निश्‍शुल्क बायोपिक दिखाई जा रही है, बल्कि पापकार्न, बर्गर और कोल्डड्रिंक भी लोगों को बिना पैसे के दी जा रही है। चुनावी माहौल में दिखाई जा रही बायोपिक के कई मायने भी निकाले जा रहे हैं।

राजनीतिक विरोध के कारण सिनेमा घरों में नहीं रिलीज हुई बायोपिक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी बायोपिक पिछले वर्ष ही सिनेमा घरों में रिलीज होने वाली थी, लेकिन राजनीतिक विरोध के कारण बायोपिक सिनेमा घरों में रिलीज नहीं हो सकी थी।

Related posts