प्रयागराज में डेंगू ने इस सीजन में वर्ष 2019 का भी रिकार्ड तोड़ दिया

 प्रयागराज में डेंगू मच्‍छरों के डंक ने इस वर्ष रिकार्ड तोड़ पारी खेली है। इस पूरे सीजन में अब तक 1134 लोगों को डेंगू ने प्रभावित किया। दो वर्ष पहले 2019 में सर्वाधिक 1121 लोगों को डेंगू का डंक लगा था। 2019 का रिकार्ड टूटने में एक तथ्य यह भी है कि लोगों को कोविड-19 ने बीमारियों से बचाव के प्रति स्वयं को सुरक्षित रखने का जो पाठ पढ़ाया था, महामारी के निम्न स्तर पर आते ही लोग उस पाठ को भूल गए।

दिसंबर का महीना लगभग आधा बीत रहा है। सुबह और शाम को कड़ाके की ठंड पड़नी शुरू हो गई है। दोपहर में भी तापमान काफी कम हो रहा है। इसके बाद भी डेंगू मच्छरों की सक्रियता थोड़ी बहुत जारी है। अभी रोज दो या तीन लोग डेंगू से संक्रमित मिल रहे हैं।

जिले में अब तक 1134 लोग डेंगू से प्रभावित हो चुके हैं। इसके बाद भी लोगों को डेंगू का डंक लग रहा है। जाहिर है कि डेंगू से बचाव के प्रति लोग अभी सजग नहीं है। गनीमत है कि ठंड आ गई वरना बीमारी के प्रभाव की स्थिति अभी कुछ और ही होती।

जिला मलेरिया अधिकारी आनंद कुमार सिंह कहते हैं कि विभाग ने जरूरत से अधिक प्रयास किया, जिसकी वजह से डेंगू ज्यादा नहीं फैल पाया। हां इतना जरूर है कि 2019 के रिकार्ड को टूटने से बचा नहीं सके। उन्होंने यह भी कहा कि कोविड-19 ने सभी को यह पाठ पढ़ाया था कि बीमारी से बचाव के लिये स्वयं ही सजग रहना होगा। लोगों ने ऐसा किया भी इसकी वजह से कोविड-19 का असर ज्यादा नहीं हो पाया।

स्वरूपरानी नेहरू चिकित्सालय के वरिष्ठ फिजीशियन डाक्‍टर मनोज माथुर कहते हैं कि कोविड-19 में लोगों ने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने, हथेली को साफ रखने, खानपान में स्वच्छता रखने, अपने घरों की सफाई रखने और एक दूसरे से दो गज की दूरी बनाए रहने के तरीके अपनाकर कोविड से जंग जीत ली थी। वही तरीका अपने जीवन में हमेशा के लिए अपना लें तो किसी भी बीमारी पर काफी हद तक रोक लगाई जा सकती है। कहा कि लोगों को कोविड-19 में सीखा हुआ यह पाठ याद रखना याद रखना होगा। भविष्य में देखेंगे की इसका बड़ा लाभ मिल सकता है।

Related posts