प्रयागराज में बिखरेगी रामलीला, शारदीय नवरात्र और दशहरा की आभा

कोरोना काल में इस बार सादगी के साथ रामलीला, शारदीय नवरात्र और दशहरा की आभा बिखरेगी। आयोजन के लिए गाइड लाइन भी जारी कर दी गई है। दो अक्तूबर को मुकुट पूजन के साथ रामलीला की शुरुआत होगी। शारदीय नवरात्र सात अक्तूबर से शुरू होगा। तैयारियों में जुटी रामलीला और दुर्गा पूजा बारवारी कमेटियों को गाइड लाइन जारी होने से राहत मिली है, लेकिन कार्यक्रम के लिए प्रशासन से अलग से अनुमति लेनी होगी। कोरोना गाइड के पालन कराने की जिम्मेदारी आयोजकों की रहेगी।

दो अक्तूबर को मुकुट पूजन संग रामलीला का आगाज

शहर की प्रमुख रामलीला कमेटियों की ओर से दो अक्टूबर को मुकुट पूजन के साथ मंचन की शुरुआत होगी। पथरचट्टी रामलीला कमेटी के प्रवक्ता लल्लू लाल गुप्ता सौरभ के अनुसार रामलीला का मंचन सात अक्तूबर से होगा। कटरा रामलीला कमेटी के महामंत्री गोपाल बाबू जायसवाल के अनुसार एक अक्तूबर को मुकुट पूजन होगा और दो को रावण जन्म की कथा के साथ रामलीला शुरू होगी। पजावा रामलीला का मुकुट पूजन दो को और रामलीला सात अक्तूबर से शुरू होगी। दारागंज और सिविल लाइंस की रामलीला दो अक्तूबर से होगी।

सात अक्तूबर से शारदीय नवरात्र का शुभारंभ

शारदीय नवरात्र सात अक्तूबर से शुरू होगा। नौ दिनों तक मां दुर्गा के विभिन्न स्वरूपों की आराधना की जाएगी। बारवारी कमेटियों की ओर से कोरोना गाइड लाइन का पालन करते हुए परम्परा अनुसार पूजन-अर्चन होगा। लूकरगंज बारवारी कमेटी के सचिव देवव्रत डे ने बताया कि पंडालों में मां 11 अक्तूबर को विराजेंगी। इस बार आनंद मेले का आयोजन नहीं होगा। डॉ. पीके राय के अनुसार गाइड लाइन में दुर्गा प्रतिमा के आकार को लेकर निर्देश नहीं है।

Related posts