प्रयागराज शहर के रेस्टोरेंट में डील करता था सहायक लेखाधिकारी

उप्र सहायक शिक्षक पात्रता परीक्षा (यूपीटीईटी) में पकड़े गए साल्वर गैंग से जुड़ी एक और चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है। पता चला है कि कन्नौज में सहायक लेखाधिकारी देव प्रकाश पांडेय साल्वर गैंंग के सरगना प्रभात सिंह और उसके साथी रौशन पटेल के साथ अपने रेस्टोरेंट में डील करता था। देव प्रकाश का सिविल लाइंस में एक रेस्टोरेंट है, जहां वह गैंग के सदस्यों से पेपर साल्व करने के संबंध में बातचीत करता था। यह जानकारी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) की लखनऊ टीम के हाथ लगी है। इसी के आधार पर एसटीएफ अब दूसरे आरोपितों की संपत्ति का ब्योरा भी खंगालने में जुट गई है। साथ ही लेखाधिकारी के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई के लिए पत्राचार किया जा रहा है।

एसटीएफ अधिकारियों का दावा है कि स्टेनली रोड निवासी देव प्रकाश ने कई साल पहले रेस्टोरेंट खोला था। उसने नोएडा में भी लाखों रुपये का निवेश किया है। ऐसे में माना जा रहा है कि कि उसने काली कमाई से रेस्टोरेंट समेत कई संपत्ति बनाई है। अब उसके बैंक खाते से लेकर आर्थिक स्रोत के बारे में पता लगाया जा रहा है। यह भी कहा जा रहा है कि गोरखपुर निवासी प्राथमिक स्कूल का शिक्षक प्रभात सिंह की गिरफ्तारी होने पर कई गैंग से जुड़े कई और राज सामने आएंगे। एसटीएफ ने कौशांबी के कोखराज थाना क्षेत्र से पहले साल्वर रौशन पटेल और फिर सहायक लेखाधिकारी को गिरफ्तार कर जेल भेजा है। इनके मोबाइल की काल डिटेल रिपोर्ट के जरिए गिरोह से जुड़े दूसरे सदस्यों का पता लगाया जा रहा है। सीओ एसटीएफ लाल प्रताप सिंह का कहना है कि छानबीन में देव प्रकाश पांडेय की कई और कारगुजारी भी सामने आ सकती है।

Related posts