मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी के बेटे संदीप तिवारी से सीबीआई ने की पूछताछ

सीबीआई ने पूछा कहां से लाए सवा लाख का मोबाइल

सीबीआई ने आनंद गिरि के करीबी संदीप तिवारी और उसके पिता मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी से भी लेनदेन और नरेंद्र गिरि से दूरियों का कारण पूछा। बुजुर्ग पुजारी से सामान्य जानकारी ली और उनकी हालत देखकर थोड़ी राहत दी लेकिन उनका बेटा संदीप सीबीआई के रडार पर रहा। उसकी गतिविधियां एसआईटी भी संदिग्ध मान रही थी। सीबीआई यह भी पता लगाने में जुटी रही कि मंदिर में फूल बेचने वाले के पास कहां से सवा लाख रुपये का मोबाइल और लाखों कीमत की गाड़ी आई। नैनी में आलीशान कोठी कैसे बन गई।

बताया जा रहा है कि नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि को अखाड़े और बड़े हनुमान मंदिर से बाहर कर दिया था। इस बीच पता चला कि मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी और उनके बेटे संदीप तिवारी अभी भी आनंद गिरि के संपर्क में है। दोनों आनंद गिरि के समर्थक हैं। इसके बाद नरेंद्र गिरि ने आद्या तिवारी को मंदिर से निकाल दिया। संदीप तिवारी को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इसके बाद आद्या और नरेंद्र गिरि के बीच विवाद हुआ था। आद्या के खिलाफ कार्रवाई से क्षुब्ध होकर एक युवक ने नरेंद्र गिरि को धमकाया भी था। पुलिस ने आरोपी को पकड़कर धुनाई की लेकिन मुकदमा दर्ज नहीं हुआ था। नरेंद्र गिरि ने अपने सुसाइड नोट में आनंद गिरि के साथ साथ आद्या और संदीप को भी आरोपी बनाया है। एसआईटी की जांच में खुलासा हुआ था कि संदीप और आंनद गिरि फोन से एक दूसरे से संपर्क में बने थे। अब सीबीआई इनकी आय और इस प्रकरण में संलिप्तता की छानबीन कर रही है। कड़ी से कड़ी जोड़ रही है कि इस केस में संदीप और आनंद गिरि का क्या रोल है।

आनंद गिरि और संदीप के आडियो की पड़ताल

एसआईटी ने आनंद गिरि और संदीप तिवारी को गिरफ्तार करने के बाद उनका मोबाइल जब्त कर लिया था। दोनों के मोबाइल की पड़ताल की गई। उस वक्त आनंद गिरि और संदीप गिरि दोनों के मोबाइल से पुलिस ने आडियो बरामद किया था। संदीप के मोबाइल से बरामद आडियो में महंत नरेंद्र गिरि से जुड़ी बातें थी। उसने अपने दोस्तों से महंत के बारे में बातचीत की थी, जिसमें उनको भलाबुरा कहा गया था। सीबीआई अब इन आडियो के बारे में भी जानकारी लेकर छानबीन कर रही है।

Related posts