महंत आनंद गिरि का विवादों से रहा है गहरा नाता

महंत नरेंद्र गिरि के प्रिय शिष्य महंत आनंद गिरि का विवादों से गहरा नाता रहा है। कुम्भ मेला 2019 के बाद मई के पहले हफ्ते में एक महिला के साथ छेड़खानी के आरोप में उन्हें ऑस्ट्रेलिया में गिरफ्तार भी किया गया था। बाद में सभी आरोपों से बरी होने के बाद महंत आनंद गिरि जेल से छूटे थे।

महंत आनंद गिरि के दामन पर लगातार आरोप लगते रहे हैं। वर्ष 2016, 2018 में भी उन पर छेड़खानी के आरोप लगते रहे हैं। इसके पूर्व हवाई जहाज में एक आपत्ति जनक फोटो भी वायरल हुई थी, इस तस्वीर में महंत आनंद गिरि पेय के साथ दिखे। गिलास में रखे पेय को शराब बताया गया था। हालांकि बाद में महंत आनंद गिरि ने इसे साफ्ट ड्रिंक बताया था। 2019 में आस्ट्रेलिया में छेड़खानी का मामला मई के पहले हफ्ते में सामने आया। कई हफ्तों तक जेल में रहने के बाद महंत आनंद गिरि जून 2019 में जेल से छूटे थे। आस्ट्रेलिया विवाद के बाद महंत आनंद गिरि संत समाज में अलग ही दिखने लगे। गुरु महंत नरेंद्र गिरि से उनकी दूरियां भी इसी दौरान बढ़ गई थी। वर्ष 2021 के हरिद्वार के कुम्भ मेले में दूरियां खुलकर सामने आने लगीं, जब आनंद गिरि ने खुद को उत्तराधिकारी बनाने के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया। इसके बाद कार्रवाई शुरू हो गई। महंत नरेंद्र गिरि ने स्वामी आनंद गिरि पर मंदिर की संपत्ति चोरी करने का आरोप लगाया था और उन्हें मठ व अखाड़े से बाहर का रास्ता दिखाया था, वहीं महंत आनंद गिरि ने गुरु पर मठ की सम्पत्ति बेचने का आरोप लगाया। महंत आनंद गिरि ने कुछ फोटो भी वायरल किए। जिसमें आरोप लगाया कि महंत नरेंद्र गिरि ने अपने परिवार के सदस्यों की करोड़ों की सम्पत्ति बनवा दी है।

मैं प्रयागराज आ रहा हूं, निष्पक्ष जांच हो: आनंद गिरि

महंत आनंद गिरि ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के एक वाट्सएप ग्रुप पर मंगलावर सुबह एक मैसेज डाला है। जिसमें उन्होंने यह कहा है कि वो प्रयागराज आ रहे हैं। सभी के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से अपील की है कि इस प्रकरण की निष्पक्ष जांच हो। वो हर प्रकार की जांच में सहयोग देने को तैयार हैं। दोषी बचना नहीं चाहिए।

Related posts