महंत रविंद्र पुरी : दिव्य हुआ लोकार्पण, भव्य होगा कुम्भ

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष व महानिर्वाणी अखाड़े के सचिव महंत रविंद्र पुरी ने कहा कि काशी विश्वनाथ कॉरीडोर का लोकार्पण भव्य हुआ। ऐसे ही प्रयागराज में वर्ष 2025 का महाकुम्भ मेला भी दिव्य और भव्य होगा। परिषद अध्यक्ष बनने के बाद पहली बार प्रयागराज आए महंत रविंद्र पुरी, महामंत्री महंत राजेंद्र दास ने सभी अखाड़े के साधु-संतों के साथ त्रिवेणी पूजन, हनुमान मंदिर और अलोपशंकरी मदिर में दर्शन-पूजन किया।

इसके बाद महंत रविंद्र पुरी अलोपशंकरी मंदिर में पत्रकारों से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का लोकार्पण ऐतिहासिक रहा। वह खुद संतों के साथ इस कार्यक्रम में शामिल हुए और वहां से लौटे हैं। उन्होंने कहा कि देशभर के साधु संतों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से न्योता भेजा गया था। भगवान विश्वनाथ मंदिर का लोकार्पण प्रदेश सरकार ने प्रधानमंत्री के हाथ से कराया। इसके लिए प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री धन्यवाद के पात्र हैं।

महंत ने कहा कि भगवान विश्वकर्मा के रूप में लगे श्रमिकों ने इस मंदिर का निर्माण कराया। उन्होंने कहा कि काशी और अयोध्या के बाद श्रीकृष्ण जन्मभूमि का भी निर्णय जल्द आएगा। यह मामला न्यायालय में है। पत्रकार वार्ता के बाद मंदिर परिसर में ही भंडारे का आयोजन किया गया।

महंत ने कहा कि अखाड़ा परिषद वर्ष 2019 की तरह 2025 कुम्भ के आयोजन में पूरा सहयोग देगा। इस दौरान संरक्षक निर्वाणी, अनि अखाड़े के महंत धर्मदास, पंच निर्वाणी के महंत गौरीशंकर दास, निर्वाणी अनि से महंत मोहनदास, दिगंबर अनि अखाड़े से रामकिशोर दास, कोषाध्यक्ष जसविंदर सिंह शास्त्री, उपाध्यक्ष महंत कोठारी मोहनदास, महंत बलराम भारती, वल्लभ देवाचार्य, ईश्वरदास, महंत नरेंद्रदास, महंत गोपालदास, महंत सत्यदेवदास, महंत अग्रदास, महंत यमुनापुरी, थानापति प्रमोद पुरी, रमेश गिरि आदि रहे। तीर्थराज पांडेय, लालजी यादव अन्य ने संतों का स्वागत किया।

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के बाद हरिद्वार में संतों के एक धड़े ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद की दूसरी कार्यकारिणी गठित की थी। 21 अक्तूबर को गठित हुई कार्यकारिणी के अध्यक्ष महानिर्वाणी अखाड़े के सचिव महंत रविंद्र पुरी बनाए गए थे। इसी कार्यकारिणी ने मंगलवार को संगम पूजन और अर्चन किया।

निर्मल पंचायती अखाड़ा परिसर में गुरुवार को श्रीमहंत मेहताब सिंह की याद में संत समागम और भंडारे का आयोजन किया गया है। महंत ज्ञानदेव सिंह की अध्यक्षता में कार्यक्रम होगा।

Related posts