महिला सशक्तीकरण सम्मेलन में स्वागत के लिए बनाए गए द्वार महिला वीरांगनाओं के नाम पर

कांग्रेस की यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी महिलाओं से संबंधित मुद्दा लगातार उठा रही हैं। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसके जवाब में प्रयागराज के परेड ग्राउंड में मंगलवार को होने वाले कार्यक्रम में स्वयं सहायता समूह की महिलाओं का सम्मान करेंगे। साथ महिलाओं के लिए की गई सरकार की उपलब्धियां भी गिनायेंगे। यह संदेश देने का प्रयास करेंगे कि भाजपा ने महिलाओं के मुद्दों को प्रमुखता दी है। यहीं कारण है कि परेड ग्राउंड में होने वाले कार्यक्रम को पूरी तरह से महिलामय बनाया जा रहा है। स्वागत गेट भी महिला विरंगनाओं के नाम पर ही बनाया जा रहा है।

प्रवेश द्वार रानी लक्ष्मीबाई के नाम पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कार्यक्रम कल यानी मंगलवार को है। इसके लिए पूरे शहर में तैयारियां चल रही है। पूरे शहर को बैनर व पोस्टर से पाट दिया गया है। साथ ही यह संदेश देने की भी कवायद की जा रही है कि भाजपा महिलाओं के साथ है। यही कारण है कि परेड ग्राउंड पर बने गेट को महिला वीरंगनाओं के नाम पर बनाया जा रहा है। परेड ग्राउंड में प्रवेश करने वाला पहला गेट महारानी लक्ष्मीबाई द्वार रखा गया है वहीं अन्य द्वारों का नाम भी महिला विरंगना उदा देवी व साहित्याकार महादेवी वर्मा के नाम पर रखा गया है।

आज शाम तक आ जाएंगी महिला लाभार्थी

आज शाम अंबेडकर नगर, औरैया, अयोध्या, आजमगढ़, बांदा, बाराबंकी, चंदौली, गाजीपुर, हमीरपुर, जालौन, कन्नौज, कानपुर देहात, कानपुर नगर, लखनऊ, मऊ, रायबरेली, सीतापुर, सोनभद्र, सुल्तानपुर, उन्नाव और महोबा की 52961 हजार महिलाएं आज शाम प्रयागराज आ जाएंगी। इन महिलाओं के ठहरने के लिए 92 स्कूलों में व्यवस्था की गई है। इसके अलावा सीधे कार्यक्रम में दो लाख से अधिक महिलाएं पहुंचेंगी।

पांच समूह की महिलाओं को देंगे प्रमाणपत्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कार्यक्रम में पांच योजनाओं की महिलाओं को प्रमाणपत्र देने के साथ हौसला-अफजायी भी करेंगे। बीसी सखी योजना, सामुदायिक शौचालय को देखरेख करने वाली महिलाएं, टेक होम राशन योजना, स्वयं सहायता समूह और कन्या सुमंगला योजना की महिलाएं कार्यक्रम में शामिल होंगी।

महिलाओं का स्वागत हाथ जोड़कर

सूत्रों के मुताबिक, प्रदेशभर से आने वाली महिलाओं का हाथ जोड़कर स्वागत करने, उन्हें सुव्यवस्थित तरीके से बैठाने व उनसे विनम्रता से पेश आने का आदेश शिक्षिकाओं को दिया गया है। यह आदेश लिखित नहीं है, लेकिन शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने प्रोग्राम से पहले बाकायदा 18, 19 दिसंबर को शिक्षिकाओं को दी गई ट्रेनिंग में ये बातें बताई हैं।

Related posts