मुंबई में हुई ड्रग्स पार्टी के बाद दिल्ली में भी पड़ सकते हैं छापे

मुंबई से गोवा जाने वाले क्रूज में ड्रग्स पार्टी के खुलासे के बाद गिरफ्तार बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान समेत सभी आठ आरोपियों के घरों की नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) तलाशी ले सकती है। इन आरोपियों में से छह का ताल्लुक दिल्ली से है, लिहाजा यहां भी सर्च ऑपरेशन चलाया जा सकता है। फिलहाल, इस बारे में एनसीबी की तरफ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है, लेकिन ड्रग्स मामले में गिरफ्तारी की स्थिति में एनडीपीएस कानून में हर आरोपी के घर की तलाशी का प्रावधान है।

एनसीबी प्रमुख एसएन प्रधान के अनुसार, जांच एजेंसी मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त बड़े गिरोह का पता लगा रही है। एनसीबी ने अपनी जांच का दायरा बढ़ा दिया है और वह नाइट पार्टी के आयोजकों, कार्यक्रम प्रबंधकों, जहाज के प्रबंधन अधिकारियों, मालिकों से लेकर पार्टी में ड्रग मुहैया कराने वाले व इसका सेवन करने वालों तक के नेटवर्क को खंगाल रही है। फिलहाल, एनसीबी आर्यन खान के अलावा दिल्ली से संबंध रखने वाले मुनमुन धमेचा, नूपुर सारिका, इश्मीत सिंह, मोहक जायसवाल, विक्रांत छोकर, गोमित चोपड़ा और अरबाज मर्चेंट को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। 

इन आरोपियों का दिल्ली से नाता

1. मुनमुन धमेचा : मुनमुन धमेचा पर पार्टी में ड्रग्स लेने का आरोप है। मुनमुन दिल्ली बेस्ड मॉडल हैं और बड़े ब्रांड के लिए मॉडलिंग करती हैं। वह मूलत: मध्य प्रदेश की हैं, लेकिन दिल्ली में उनका निवास स्थान है। लिहाजा दिल्ली स्थित निवास की भी तलाशी ली जा सकती है।

2. इश्मित सिंह : दिल्ली निवासी इश्मित चड्ढा बड़े कारोबारी हैं। इश्मित पार्टी में कैसे पहुंचे, इसका खुलासा नहीं हो पाया है। हालांकि एनसीबी उनसे भी पूछताछ कर रही है। संभावना है कि इनके घर की भी तलाशी ली जाए।

3. मोहक जायसवाल : मोहक जायसवाल भी दिल्ली के बड़े कारोबारी हैं। मोहक का दिल्ली में ही घर है, जिसकी कभी भी तलाशी ली जा सकती है। फिलहाल, एनसीबी मोहक से भी पूछताछ कर रही है।

4. गोमीत चोपड़ा : दिल्ली से ताल्लुक रखने वालों में गोमीत चोपड़ा का भी नाम है। गोमीत जाने-माने हेयर स्टाइलिस्ट हैं। वह दिल्ली के योजना विहार के रहने वाले हैं। गोमीत की मां ने मुंबई एनसीबी दफ्तर में बेटे से मुलाकात भी की।

5. विक्रांत छोकर : विक्रांत छोकर दिल्ली की एक निजी कंपनी में प्रोडक्टिविटी हेड के पद पर कार्यरत है। इसके भी दिल्ली कनेक्शन को लेकर एनसीबी जांच कर रही है।

6. नूपुर सारिका : आरोपी नूपुर दिल्ली की बड़ी कारोबारी हैं। पार्टी में वह किसके जरिए पहुंचीं, एनसीबी इसकी जांच कर रही है। नूपुर के भी दिल्ली वाले निवास की तलाशी हो सकती है।

दिल्ली में ड्रग्स के 15 हॉट स्पॉट: क्राइम ब्रांच की नारकोटिक्स यूनिट ने राजधानी में मादक पदार्थों की तस्करी में हुई कार्रवाई के आधार पर 15 ‘हॉट स्पॉट’ चिन्हित किए हैं, ताकि इस गोरखधंधे पर शिकंजा कसा जा सके। हॉट स्पॉट में दिल्ली के सुल्तानपुरी, जहांगीरपुरी, इंद्रपुरी, सागरपुर, उत्तम नगर, लक्ष्मी नगर, नंद नगरी, द्वारका, छतरपुर, निजामुद्दीन, मजनूं का टीला, पहाड़गंज, कल्याणपुरी, हौज खास गांव और खानपुर शामिल हैं।

पार्टी में सिंथेटिक ड्रग्स का चलन बढ़ा
नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की मानें तो पार्टी सर्किट या रेव पार्टी में ज्यादा सिंथेटिक ड्रग्स की मांग ज्यादा बढ़ी है। पिछले दो सालों में नशीली दवाओं पर आधारित ड्रग की तस्करी में करीब 25 फीसदी तक इजाफा हुआ है। पहले कोकेन व हेरोइन का सेवन करने वाले नौजवान अब मेथ, एलएसडी और म्याऊं-म्याऊं को पसंद कर रहे हैं। कोकेन लैटिन अमेरिका में पैदा होने वाले प्लांट से तैयार कुदरती नशा है, जबकि मेथ और म्याऊं-म्याऊं लैबोरेट्री में केमिकल्स से बनती हैं।

कौन से सिंथेटिक ड्रग्स कहां बनते हैं:
पार्टी ड्रग्स के रूप में महशूर हो रहे ड्रग्स में मेथ, एलएसडी और मिथाइलीनडाइऑक्सी/ मेथैमफेटामाइन मुख्यत: रेव पार्टियों में किया जाता है।

मेथ: एनसीबी के मुताबिक, लैबोरेट्री ड्रग मेथ यानी आइस, मुख्य रूप से म्यांमार की लैबोरेट्रीज में तैयार हो रही है।

एलएसडी: एलएसडी यूरोप और खासतौर पर नीदरलैंड और डेनमार्क की लैबोरेट्रीज में बनती है।

मिथाइलीनडाइऑक्सी/ मेथैमफेटामाइन: आमतौर पर ‘म्याऊं-म्याऊं’ के नाम से जाना जाने वाला यह ड्रग्स नाइजीरिया और अफगानिस्तान में बनता है।

Related posts