वर्दीवाले के ईमानदारी की मिसाल

खाकी पर अक्सर ही तरह-तरह से सवाल उठते हैं, खासकर रिश्वतखोरी के। दागी पुलिसवालों के बीच कुछ वर्दीवाले ईमानदार भी हैं। ऐसे ही पुलिसकर्मी रामबाग रेलवे स्टेशन पर सामने आए हैं। इन पुलिसवालों की ईमानदारी की काफी तारीफ हो रही है। हुआ यह कि जल्दबाजी में मऊ के रानीपुर थाना क्षेत्र के पड़री गांव के रहने वाले राजीव दुबे की पत्नी आराधना देवी और परिवार वालों ने शहर में खरीदारी की। राजीव नैनी जेल में सिपाही है। गुरुवार की रात परिवार के लोग रामबाग स्टेशन पहुंचे। उन्हें चौरीचौरा एक्सप्रेस पकड़नी थी। टेंपो से उतर कर सर्कुलेटिंग एरिया में जाने के दौरान उनका गहनों वाला बैग छूट गया। कुछ देर बाद रामबाग चौकी प्रभारी लल्लन यादव और सिपाही शोएब अहमद गुजरे तो बैग देखा। बैग खोला तो उसमें रुपये और गहने थे। दोनों बैग लेकर चौकी पहुंचे। अफसरों को सूचना देकर परिवार की तलाश करने लगे। बैग में एक रसीद थी, जिस पर लिखे मोबाइल नंबर पर कॉल किया तो फोन आराधना ने उठाया। बैग मिलने की खबर सुनकर उन्होंने आभार जताया। अब बलिया के रहने वाले लल्लन यादव की खूब तारीफ हो रही है।

पहले भी एयरपोर्ट और स्टेशन से लौटाए गए सामान

पुलिसवालों की ईमानदारी का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी जंक्शन पर जीआरपी और आरपीएफ के सिपाहियों ने कई यात्रियों को बुलाकर उनका सामान लौटाया। पिछले साल जंक्शन पर दिल्ली जाने के दौरान एक महिला अपना मोबाइल, एटीएम कार्ड और रुपये वाला बैग छोड़ गई थी। उसी मोबाइल के जरिए काल कर महिला का सामान लौटाया गया था। इसी प्रकार प्रयागराज एयरपोर्ट पर पिछले महीने दो यात्री बैग भूल गए थे। उन्हें भी तलाश कर बैग लौटाया गया।

Related posts