संगम नगरी की शान होगा राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय (National Law University)

चीफ जस्टिस इलाहाबाद हाई कोर्ट होंगे इसके चांसलर

 चैतन्य भारत | शहर पश्चिमी इलाके के झलवा में बनने वाली देश की 24 वीं नेशनल ला यूनिवर्सिटी का शिलान्यास 11 सितंबर को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद करेंगे। प्रदेश की यह दूसरी नेशनल ला यूनिवर्सिटी होगी और विधिवेत्ताओं के लिए ख्यात संगमनगरी की शान बढ़ाएगी। यहां पर तकनीक और मेडिकल की पढ़ाई के लिए राष्ट्रीय स्तर के संस्थान हैं लेकिन विधि के क्षेत्र में ऐसा नहीं था। अब इस संस्थान के बनने से प्रयागराज का गौरव और बढ़ेगा। अब तक देशभर में 23 नेशलन ला यूनिवर्सिटी हैं। राष्ट्रपति कोविंद के प्रयागराज आगमन की तैयारी पिछले कई रोज से जोर-शोर से चल रही है। एयरपोर्ट से हाई कोर्ट और वहां से सर्किट हाउस से लेकर संगम तक के मार्ग को सजाया संवारा और चमकाया जा रहा है।

10 हेक्टेयर में बनने वाली इस यूनिवर्सिटी में सभी सुविधाएं होंगी। अत्याधुनिक तकनीक से भवन निर्माण कराया जाएगा। वहां पर प्रशासनिक भवन, शिक्षण भवन, लाइब्रेरी आदि की बिल्डिंग बनाई जाएगी। हरियाली का विशेष ध्यान रखा जाएगा और अधिक से अधिक पौधे लगाए जाएंगे। इस यूनिवर्सिटी में पांच वर्षीय विधि पाठ्यक्रम चलेगा और इसके चांसलर इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस होंगे जबकि लखनऊ में बनी यूनिवर्सिटी के चांसलर राज्यपाल हैं। यह यूनिवर्सिटी संगम के लिए विख्यात प्रयागराज की शान होगी।

शिक्षा के गढ़ संगम नगरी में इलाहाबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय सहित तीन सरकारी यूनिवर्सिटी हैं जबकि दो निजी यूनिवर्सिटी हैं। अब झलवा में बनने वाली नेशनल ला यूनिवर्सिटी चौथी सरकारी यूनिवर्सिटी होगी। इसका निर्माण झलवा में ट्रिपलआइटी के निकट 291 करोड़ रुपये में होगा। इसका डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) शासन को भेजी जा चुकी है। शिलान्यास से पहले बजट स्वीकृति हो जाएगा।

Related posts