सवालों में घिर गए बलबीर गिरि

अपने बयान बदलने से सवालों में घिर गए बलबीर गिरि

महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट पर अपने बयान बदलने से करोबारी बलबीर गिरि सवालों में घिर गए। उन्होंने सबसे पहले यही बयान जारी किया कि सुसाइड नोट की हैंड राइटिंग महंत नरेंद्र गिरि की है, जबकि बाद में कहा कि हैंड राइटिंग वो पहचानते नहीं।

बलबीर गिरि ने पहले कहा था कि जहां तक वो हैंडराइटिंग की बातें करें, उसके लिखे जो अक्षर हैं वो गुरुदेव के हैं। यह पूछे जाने पर कि महंत नरेंद्र गिरि ने उन्हें अपना उत्तराधिकारी बनाया है तो उन्होंने कहा कि वो सभी प्रकार की जिम्मेदारी उठाने के लिए तैयार हैं। अब तक जो भी हुआ है वो महंत नरेंद्र गिरि की इच्छा से ही हुआ है। जब इस पर संत समाज ने सुसाइड नोट पर सवाल खड़ा किया तो बलबीर गिरि ने बयान बदल दिया। उन्होंने हैंडराटिंग पहचानने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि यह जांच का विषय है और इस पर किसी प्रकार की बयानबाजी नहीं कर सकते। एक ही मुद्दे पर दो बयान देने के कारण कारोबारी बलबीर गिरि खुद भी सवालों के घेरे में आ गए हैं।

Related posts