मोटापे से लेकर डिप्रेशन तक, ये 10 बुरी आदतें हैं हर बीमारी का कारण, आज ही छोड़िये

चैतन्य भारत न्यूज

बुरी आदतें हमेशा हर किसी की सेहत को बर्बाद कर देती है। जाने-अनजाने हुई इन गलतियों के लिए हमें बाद में पछताना पड़ सकता है। रोजाना हम कई ऐसी गलतियां कर ही देते हैं। इसलिए यदि आप स्वस्थ और खुशहाल जीवन जीना चाहते हैं तो इन छोटी-छोटी गलतियों पर ध्यान देना शुरू कीजिए। यकीन मानिए, ये 10 बुरी आदतें छोड़ने से आपको डॉक्टर और दवाइयां दोनों से राहत मिलेगी।

शराब

शराब में मौजूद एल्कोहल से आपकी शारीरिक और मानसिक स्थित दोनों पर बुरा असर पड़ता है। इसमें कोई संशय नहीं है कि अल्कोहल से हमारे शरीर को कई बड़े नुकसान हो सकते हैं। शराब ना सिर्फ इंसान का लिवर खराब करती है, बल्कि ये हृदय रोग, डिप्रेशन, गठिया और कैंसर जैसे खतरनाक रोगों का कारण बन सकती है।

कमर मोड़कर बैठना

अक्सर आपने लोगों को कमर मोड़कर बैठे या चलते देखा होगा। ऐसा करना ना सिर्फ आपके शरीर की मांसपेशियों और रीढ़ के लिए हानिकारक है, बल्कि बॉडी पोश्चर पर भी इसका बुरा असर पड़ता है। कमर को हमेशा सीधा रखें। इससे मांसपेशियों में संतुलन रहेगा और रीढ़ भी दुरुस्त रहेगी।

धूम्रपान

धूम्रपान दिल की बीमारियां और कैंसर से हुई 30% मौत के लिए जिम्मेदार है। इतना ही नहीं, 80-90% लोगों को फेफड़ों का कैंसर भी स्मोकिंग की वजह से होता है। सिगरेट या बीड़ी पीने से मुंह, गला या ब्लैडर कैंसर भी होता है। इन्हें छोड़ते ही आपको इसके लाभ दिखने शुरू हो जाएगा, क्योंकि स्मोकिंग छोड़ने के अगले ही मिनट से फेफड़े और कार्डियोवस्क्युलर सिस्टम खुद-ब-खुद रिकवर होने लगते हैं। लेकिन इसे वक्त रहते छोड़ देना चाहिए।

पानी कम पीना

पानी कम पीने की वजह से हमारी बॉडी डीहाइड्रेट होना शुरू हो जाती है। पानी की कमी का बुरा असर पूरे शरीर पर पड़ता है। ये थकान, ड्राय स्किन, चिड़चिड़ापन और फोकस में कमी का कारण बन सकता है। पानी कम पीने से शरीर से जहरीले पदार्थ बाहर नहीं आ पाते हैं, जिसके कारण किडनी और इम्यून पर भी बुरा असर होता है।

पेन किलर्स का सेवन

पेन किलर्स यानी दर्द में राहत देने वाली दवाओं को भी बहुत कम इस्तेमाल करना चाहिए। इनका लंबे समय तक इस्तेमाल सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है। पेन किलर्स लगातार लेने से अल्सर, गैस्ट्रोइंटसटाइनल से खून, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक की दिक्कत बढ़ सकती हैं। इसलिए ऐसी दवाओं के एडिक्शन पर कंट्रोल करना सीखिए।

जंक फूड

बाजार में मिलने वाला जंक फूड या फास्ट फूड आपकी जुबान को संतुष्ट तो कर देता है, लेकिन साथ ही कई बीमारियां भी दे जाता है। जंक फूड तेजी से वजन बढ़ाकर डायबिटीज, हृदय रोग समेत कई खतरनाक बीमारियों को शरीर में आने की दावत देता है। जंक फूड के साथ आपके पेट में कई अनहेल्दी चीजें भी जाती हैं।

स्ट्रेस

अनहेल्दी लाइफ के कारण शरीर में स्ट्रेस हार्मोन्स तेजी से रिलीज होते हैं। स्ट्रेस की वजह से इंसान को ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर की समस्या हो सकती है। इतना ही नहीं, ये बढ़ते वजन के साथ आपके डाइजेशन और इम्यूनिटी पर भी बुरा असर डालता है। इससे निजात पाने के लिए आप स्ट्रेस मैनेजमेंट के तहत ‘डीप ब्रीदिंग’, ‘मेडिटेशन’, ‘योग’, ‘वर्कआउट’ कर सकते हैं या परिवार के साथ समय बिता सकते हैं।

नाश्ता न करना

कई लोगों को सुबह के वक्त नाश्ता करने की आदत नहीं होती है। क्या आप जानते हैं मॉर्निंग डाइट ना लेने से आपकी सेहत को कितना नुकसान है? ऐसा लगातार करने से आपके सामान्य वजन, हार्मोनल हेल्थ, मेमोरी, ह्यूमर और मूड पर बुरा असर पड़ता है। सुबह का नाश्ता ना करने से मेटाबॉलिज्म सुस्त होता है, जो इंसान के वजन बढ़ने का कारण बन सकता है।

कम नींद लेना

कम या अपर्याप्त नींद लेने से आपका फोकस कमजोर होता है। व्यवहार में चिड़चिड़ापन आने लगता है। डिप्रेशन की समस्या बढ़ जाती है। स्ट्रेस हार्मोन में वृद्धि होने से वजन भी बढ़ता है। कम सोने से स्किन और इम्यून पर तो बुरा असर पड़ता ही है, साथ ही हाई ब्लड प्रेशर की समस्या भी होती है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि हमें रोजाना कम से कम 8 घंटे की नींद लेनी चाहिए।

वर्क फॉर्म होम के दौरान यह गलती करना

वर्क फॉर्म होम के दौरान लोगों को घंटों तक कंप्यूटर के आगे बैठकर काम करना पड़ रहा है। अक्सर लोग इसे सिर्फ आंखों के लिए खराब समझते हैं, पर क्या आप जानते हैं, इससे हमारे हाथों पर भी बुरा असर पड़ता है। जी हां… हाथ और उंगलियों में दर्द और झनझनाहट के कारण ‘कार्पल टनल सिंड्रोम’ का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए काम के बीच में आंखों के साथ-साथ हाथों को भी रिलैक्स दें।

Related posts