ऑस्ट्रेलिया में 10 हजार ऊंटों को मारने का आदेश, जानें वजह

australia,australia camels,camels

चैतन्य भारत न्यूज

कैनबरा. आमतौर पर आपने देखा होगा कि दुनियाभर में जीव-जंतुओं को बचाने की कोशिश होती है, लेकिन ऑस्ट्रेलिया में आदिवासी नेताओं के एक फैसले ने सबको हैरान कर दिया है। दरअसल दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया में पानी की कमी के कारण वहां के 10,000 जंगली ऊंटों को मारने का आदेश जारी किया गया है।



जानकारी के मुताबिक, यह काम बुधवार से शुरू किया जाएगा, जिसमें पेशेवर निशानेबाज हेलीकॉप्टर से ऊंटों का शिकार करेंगे। स्थानीय संगठन अनंगु पीतजंतजतारा यनकुनितज्जतजरा लैंड्स (Anangu Pitjantjatjara Yankunytjatjara lands) यानी एपीवाई का कहना है कि ऊंटों को मारे जाने का एक कारण दक्षिणी ऑस्ट्रेलिया में पानी की कमी होना भी है।

स्थानीय लोगों का कहना है कि हम पानी की किल्लत की वजह से एसी (AC) का पानी भी स्टोर कर रखते हैं। ये ऊंट इस पानी को पीने आ जाते हैं। ये घर के आसपास घूमते हैं। ऑस्ट्रेलिया में इनकी आबादी 12 लाख से अधिक है। ऊंटों की बढ़ती जनसंख्या भी देश के लिए समस्या बन रही है, क्योंकि यह सूखे वाले इलाके में ज्यादा पानी पी जाते हैं। यही नहीं, यह सड़कों पर अतिरिक्त 4 लाख कारों के बराबर भी है।

स्थानीय प्रशासन का दावा है कि जंगली ऊंट की आबादी हर नौ साल में दोगुनी हो जाती है। यहां साल 2009 से 2013 तक भी 1.60 लाख ऊंटों को मारा गया था। इसके अलावा, रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि ऊंट ग्लोबल वार्मिंग को बढ़ा रहे हैं। ऊंट साल भर में एक टन मीथेन उत्सर्जित करते हैं, जो इतनी ही कार्बन डाईऑक्साइड के बराबर है।

गौरतलब है कि, इन दिनों ऑस्ट्रेलिया का 90 फीसदी हिस्सा जंगलों में लगी आग से प्रभावित है। अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है और हजारों घर तबाह हो गए हैं। आग का सबसे बुरा असर वन जीवन पर पड़ा है। यहां अब तक 50 करोड़ से ज्यादा जानवर और जीव-जंतु मारे जा चुके हैं।

ये भी पढ़े…

ऑस्ट्रेलिया के जंगल में लगी सबसे भयानक आग, 50 करोड़ जानवर हुए खाक, घर छोड़ भाग रहे हैं लोग

ऑस्ट्रेलिया में पिछले एक साल में 22 पुरुषों ने दिया बच्चों को जन्म दिया

ऑस्ट्रेलिया सरकार इस खतरनाक तरीके से मारने वाली है करीब 20 लाख बिल्लियां

Related posts