सफाई अभियान के दौरान माउंट एवरेस्ट पर मिला 11 हजार किलो कचरा और चार शव

चैतन्य भारत न्यूज

दुनिया की सबसे ऊंची चोटी माउंट एवरेस्ट पर नेपाल सरकार ने दो महीने का सफाई अभियान चलाया था। इस दौरान वहां से 11 हजार किलो कचरा मिला। कचरे के साथ ही माउंट एवेरेस्ट से 4 मानव शव भी बरामद हुए हैं। इस बात की जानकारी एक अधिकारी ने दी है।

माउंट एवेरस्ट से नीचे आने वाले पर्वतारोहियों ने भी बताया था कि, चोटी पर मानव मलमूत्र, टूटी हुई सीढ़ियां, केन और प्लास्टिक के पैकेट आदि पाए जाते हैं। अभियान से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि, कुछ कचरे को काठमांडू भेज दिया गया है जहां उसे रिसाइकिल किया जाएगा। उन्होंने बताया कि, उनकी टीम अपने अभियान में सफल हुई। कुछ कचरा अब भी चोटी पर जमा है। ये कचरा बर्फ से पूरी तरह ढक चुका है। अब वह तापमान बढ़ने पर ही नजर आएगा। फिलहाल अधिकारी इस बात का पता नहीं लगा पाए कि पर्वत पर अभी कितनी मात्रा में कचरा मौजूद है। ज्यादातर कचरा कैंप दो और तीन से मिला है। ये वहीं कैंप हैं जो बेस कैंप और चोटी के बीच में पड़ते हैं और पर्वतारोही यहीं आराम करते हैं।

पर्यटन विभाग के निदेशक जनरल डांडु राज घिमिरे ने कहा कि, ’20 शेरपा पर्वतारोही वाली सफाई टीम ने अप्रैल से मई के बीच विभिन्न कैंप से 5 टन कचरा बरामद किया। बाकी का छह टन कचरा नीचे के क्षेत्र से मिला। कुछ कचरा खराब मौसम के चलते नीचे नहीं लाया जा सका, लेकिन उसे बैग में इकट्ठा किया गया था।’ शवों को पहचान के लिए काठमांडु के अस्पताल ले जाया गया है। दरअसल, कई बार चोटी से नीचे आने में पर्वतारोहियों को परेशानी आती है। इस वजह से वो अपनी टीम के मृत सदस्यों को नीचे नहीं ला पाते।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, 66 साल पहले पहली बार माउंट एवरेस्ट को किसी पर्वतारोही ने फतह किया था। इसके बाद से यह पहला मौका है जब दुनिया की सबसे ऊंची चोटी की सफाई का अभियान शुरू किया गया है। पर्वत पर बड़े पैमाने में ऑक्सिजन की बोतलें, टेंट, रोप, मानव मल, टूटी हुई सीढ़ियां, कैन और प्लास्टिक के तमाम रैपर पाए गए हैं। इस बार छोटी पर पहुंचने वाले लोगों की संख्या में भी इजाफा हुआ है। इस वजह से माउंट एवेरस्ट पर ट्रैफिक जाम जैसी स्थिति बन गई थी।

ये भी पढ़े… 

पृथ्वी के सबसे ऊंचे स्थान माउंट एवरेस्ट पर लगा जबरदस्त ट्रैफिक जाम, ठंड की वजह से 8 की मौत

Related posts