राजस्थान गुर्जर आंदोलनः पटरी पर बैठे लोग 14 ट्रेनें रद्द, कई डायवर्ट

चैतन्य भारत न्यूज।

जयपुर। राजस्थान में गुर्जर आरक्षण संघर्ष समिति का आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन शनिवार को भी जारी है। गुर्जर समुदाय के सदस्य सवाई माधोपुर के मकसूदनपुरा में रेलवे ट्रैक पर बैठे हुए हैं। प्रदर्शनकारियों ने रेलवे ट्रैक पर तंबू लगाए हुए हैं। जिसकी वजह से कई जगहों पर यातायात पूरी तरह ठप है। इसका असर ट्रेनों पर भी देखा जा रहा है। कोटा डिविजन में 14 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है, और कई को डायवर्ट किया है।

रेलमार्ग पर ट्रेनों का संचालन ठप

इसके चलते भरतपुर संभाग में दिल्ली-मुंबई रेलमार्ग पर ट्रेनों का संचालन पूरी तरह से ठप हो गया है। गुर्जर समुदाय के एक सदस्य ने शनिवार को कहा, ‘हमारे पास अच्छा सीएम और अच्छा पीएम है, हम चाहते हैं कि वह गुर्जर समुदाय की मांगें सुनें। हमारी आरक्षण की मांग पूरी करना उनके लिए कोई बड़ा काम नहीं है।’

क्या है मांग?
गौरतलब है कि गुर्जर समाज सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थानों में प्रवेश के लिए गुर्जर, रायका-रेबारी, गडिया लुहार, बंजारा और गडरिया समाज के लोगों को 5 प्रतिशत आरक्षण की मांग कर रहा है। इस समय अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के अतिरिक्त 50 प्रतिशत की कानूनी सीमा में गुर्जर को अति पिछड़ा श्रेणी के तहत एक प्रतिशत अलग से आरक्षण मिल रहा है।राज्य में गुर्जरों के आंदोलन का मुद्दा 14 साल से चल रहा है और शुक्रवार से एक बार फिर प्रदर्शन ने तेजी पकड़ी है।

वर्तमान में अन्य पिछड़ा वर्ग के आरक्षण के अतिरिक्त 50 प्रतिशत की कानूनी सीमा में गुर्जर को अति पिछड़ा श्रेणी के तहत एक प्रतिशत अलग से आरक्षण मिल रहा है। बैसंला ने मंगलवार को कहा था कि कांग्रेस ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में इस बारे में वादा किया था और अब वे कांग्रेस सरकार से सरकारी दस्तावेज बन चुके घोषणा पत्र के वादे को पूरा करने की मांग कर रहे हैं।

रेल यातायात प्रभावित, हेल्पलाइन नंबर जारी
कोटा डीआरएम ने ट्वीट कर हेल्पलाइन नंबरों की जानकारी दी है। राजस्थान के कोटा मंडल में गुर्जर आंदोलन के कारण आंशिक रद्द गाड़ियों और गाड़ियों के रूट मे बदलाव की जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर- 0744-2467153 और 0744-2467149 पर संपर्क किया जा सकता है।

इन ट्रेनों को किया रद्द

देहरादून एक्सप्रेस (19020) – देहरादून से बांद्रा टर्मिनस (BTDS) तक
बांद्रा-लखनऊ एक्सप्रेस (19021)

निज़ामुद्दीन एक्सप्रेस (12415) (इन्दौर – दिल्ली इंटरसिटी)
निज़ामुद्दीन गरीबरथ (12909) – बांद्रा से निज़ामुद्दीन

गहलोत सरकार का कहना बात करने को तैयार

मामले में गहलोत सरकार का कहना है कि वह बात करने के लिए तैयार हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आंदोलनकारियों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार ने पहले भी उनकी बात सुनी थी और अब भी सुनेगी। गहलोत ने कहा ”सरकार समाधान के लिए बेहद गंभीर है और राज्य सरकार के स्तर पर गंभीर प्रयास किया गया है, राज्य सरकार गुर्जर नेताओं से बातचीत करने को तैयार है। कांग्रेस सरकार ने पहले भी उनकी बात सुनी थी और अब भी सुनेगी।

प्रधानमंत्री को दें ज्ञापन…

मामले में मुुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि गुर्जर नेता अपनी मांग से जुड़ा ज्ञापन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दें, क्योंकि संविधान में संशोधन के बिना इस मांग को मानना मुमकिन नहीं है।गहलोत ने अपील की है कि वे पटरियां खाली कर दें।

सुप्रीम कोर्ट ने आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों को आरक्षण के खिलाफ दायर याचिका पर केंद्र से मांगा जवाब

 

Related posts