करीब 19 सालों तक कोर्ट ने करवाया हत्यारे का इलाज, ठीक होने के बाद सुनाई उम्रकैद की सजा

mumbai,court,criminal

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई से हाल ही में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक अपराधी को सजा देने के लिए 20 साल तक का इंतजार किया गया और अंत में जाकर उसे उम्रकैद की सजा सुनाई। गफ्फार नामक अपराधी की मानसिक हालत इस कदर खराब थी कि वह कोर्ट के सवालों का जवाब और अपने बचाव के लिए कोई जवाब नहीं दे पा रहा था। इस दौरान कोर्ट ने उसे दो बार इलाज के लिए अस्पताल भेजा।

पहली बार में अपराधी का इलाज करीब 11 साल तक चला। इसके बाद जब वह कोर्ट में पेश हुआ तब भी वह अपने बयान सही से नहीं दे पा रहा था। फिर कोर्ट ने दोबारा उसे चिकित्सकों के पास भेज दिया। इस दौरान फिर एक बार गफ्फार का करीब 7 साल तक इलाज चला। आखिरकार अच्छी सेहत होने के बाद उसे कोर्ट में पेश किया गया। साल 2019 में उसे सजा उम्रकैद की सजा सुनाई गई। इलाज के दौरान गफ्फार जेल में ही रहा था और वहीं पर उसका नियमित इलाज चलता रहा।

क्या था मामला

गफ्फार ने साल 1999 में अशोक यादव की हत्या कर दी थी। मुंबई के सांताक्रूज इलाके में अशोक रात को सड़क किनारे सो रहा था। इस दौरान गफ्फार ने आकर पहले तो उसे जगाया और फिर उसकी चाकू से गोदकर हत्या कर फरार हो गया। बाद में पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। कोर्ट में पेश होने के बाद गफ्फार बेतुकी बातें करने लगा। उसकी दिमागी हालत पर शक होने के बाद कोर्ट ने चिकित्सकीय जांच का आदेश दिया।

स्किजोफ्रेनिया से पीड़ित था गफ्फार

डॉक्टरों ने बताया कि गफ्फार स्किजोफ्रेनिया (एक तरह की मानसिक बीमारी) नामक दिमागी बीमारी से पीड़ित था। इलाज के दौरान कोर्ट में सुनवाई रुकी रही। गफ्फार का इलाज मुंबई के थाणे में स्थित इंस्टीट्यूट ऑफ फिजियोलॉजिक हेल्थज में चला और फरवरी 2019 को उसे पूरी तरह से स्वस्थ्यई घोषित किया गया। जानकारी के मुताबिक, अपराध करते समय गफ्फार पूरी तरह से स्वस्थ था। उस समय उसे पता था कि वह क्या कर रहा है। कोर्ट ने उसे हत्या का दोषी माना और उम्रकैद की सजा सुनाई।

Related posts