कोरोना वायरस: ‘मन की बात’ में पीएम मोदी ने जनता से मांगी माफी, कहा- आपकी जिंदगी में परेशानी आई, लेकिन ये कदम जरूरी था

mann ki bat

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. देशभर में लॉकडाउन के बीच रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मन की बात कार्यक्रम में देशवासियों को संबोधित किया। इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कोरोना वायरस पर ही बातचीत की। इस दौरान उन्होंने जनता से माफी भी मांगी और कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए कुछ ऐसे फैसले लेने पड़े हैं जिनसे देशवासियों को तकलीफ उठानी पड़ रही है इसके लिए मैं सभी से क्षमा मांग रहा हूं, विशेषकर गरीब वर्ग के लोगों के लिए।

कड़े कदम उठाने के लिए माफी चाहता हूं-पीएम

देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि, ‘कुछ फैसलों की वजह से आपकी जिंदगी में परेशानी आ गई है। गरीबों को खास दिक्कत हुई है। मुझे मालूम है कि आपमें से कुछ हमें नाराज भी होंगे। लेकिन कोरोना से लड़ने के लिए ये कदम जरूरी थे।’ पीएम मोदी ने आगे कहा कि, ‘कोरोना वायरस इंसान को मारने की जिद ले बैठा है। लॉक डाउन आपको बचाने के लिए लगाया गया है।’

लॉकडाउन न मानने वाले जीवन से खिलवाड़ कर रहे

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, ‘कोविड 19 से लड़ाई कठिन है और इससे मुकाबले के लिए ऐसे फैसलों की जरूरत थी। भारत के लोगों को सुरक्षित रखने के लिए ये जरूरी था। लॉकडाउन न मानने वाले लोग जिंदगी खिलवाड़ कर रहे हैं। वे समझते हैं कि कोई भी जान बूझकर कानून नहीं तोड़ना चाहता है। लेकिन कुछ लोग ऐसा कर रहे हैं। ‘ पीएम ने कहा कि, ‘वे ऐसे लोगों से कहना चाहते हैं कि अगर वे लॉकडाउन का पालन नहीं करते हैं तो इस बीमारी का पालन करना मुश्किल होगा।’

इन लोगों से प्रेरणा लेने की जरुरत

प्रधानमंत्री ने कहा कि, ‘कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे हमारे जो फ्रंटलाइन सोल्जर हैं उनसे आज हमें प्रेरणा लेने की जरूरत है। डॉक्टर, नर्स, मेडिकल स्टाफ से हमें सीखने की जरूरत है। कोरोना को हराने वाले साथियों से हमें प्रेरणा लेने की जरूरत है।’

कोरोना से ठीक हुए लोगों को क्या कहा

प्रधानमंत्री ने मन की बात कार्यक्रम में उन लोगों के लिए भी कुछ कहा जो कोरोना वायरस के संक्रमण का इलाज करवाकर ठीक हुए हैं। इस दौरान पीएम ने सॉफ्टवेयर इंजीनियर राम और आगरा के अशोक कपूर से बात की। राम ने कहा कि, ‘लॉकडाउन जेल जैसा नहीं है और लोग नियमों का पालन कर ठीक हो सकता है।’ अशोक कपूर ने कहा कि, ‘वे आगरा के स्वास्थ्यकर्मियों और स्टाफ को धन्यवाद देना चाहते हैं। दिल्ली के अस्पताल के कर्मचारियों और स्टाफ ने उनकी मदद की।’

आचार्य चरक की पंक्तियों का किया जिक्र

मन की बात कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना वायरस के मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों से भी बात की। डॉक्टरों ने बताया कि, वे पूरे जज्बे के साथ कोरोना के मरीजों का इलाज कर रहे हैं। इस दौरान प्रधानमंत्री ने आचार्य चरक की पंक्तियों का भी जिक्र करते हुए कहा कि, ‘जो बिना किसी भौतिक कामना के मरीजों की सेवा करता है, वही सच्चा और सबसे बढ़िया डॉक्टर है।

इन लोगों को किया सलाम

पीएम मोदी ने सभी नर्सों को सलाम भी किया और कहा कि ये सभी अतुलनीय निष्ठा के साथ मरीजों की सेवा कर रहे हैं। अपने संबोधन में पीएम मोदी ने इस मुश्किल समय में किराना दुकान चलाने वाले, ई कॉमर्स, बैंकिंग, डिजिटल ट्रांजेक्शन को संभव बनाने वाले लोगों को भी सलाम किया।

सोशल डिस्टेंस बनाए रखने की अपील

कार्यक्रम के अंत में पीएम मोदी ने जनता से सोशल डिस्टेंस बढ़ाने की अपील की। उन्होंने कहा कि, ‘आप सभी इस समय इमोशनल डिस्टेंस घटा सकते हैं और अपने सगे-संबंधियों, पुराने दोस्तों, परिचितों से बात कर सकते हैं। अपने शौक पूरा कर सकते हैं।’

ये भी पढ़े…

देश में कोरोनावायरस संक्रमित मरीजों की संख्या पहुंची 1000 के करीब, अब तक 25 लोगों की मौत

कोरोनावायरस: भाजपा का ऐलान- सभी नेता दान करेंगे एक महीने का वेतन, सांसद देंगे एक करोड़

 भारतीय वैज्ञानिकों ने की जानलेवा कोरोना वायरस की पहचान, जारी की तस्वीर

 

Related posts