बुलंदशहर: मंदिर परिसर में 2 साधुओं की सोते वक्त निर्मम हत्या, चिमटा चुराने का था विवाद, आरोपी बोला- भगवान की इच्छा थी

bulandshahr sadhuo ki hatya

चैतन्य भारत न्यूज

बुलंदशहर. महाराष्ट्र के पालघर में संतों की हत्या को लेकर विवाद अभी थमा ही नहीं था कि इसी बीच उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में साधुओं की हत्या कर दी गई। मंदिर परिसर में सो रहे दो साधुओं पर देर रात धारदार हथियार से हमला कर घटना को अंजाम दिया गया। घटना के बाद लोगों ने आरोपी को पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।

खून से लथपथ पड़े मिले शव

बुलंदशहर में अनूपशहर कोतवाली क्षेत्र के पगोना गांव में एक शिव मंदिर है। मंदिर की देख- रेख और पुरोहित का काम करने वाले 55 वर्षीय साधु जगनदास और 35 वर्षीय साधु सेवादास सोमवार रात जब सो रहे थे तब आरोपी ने डंडे से मारा और फिर धारदार हथियारों से प्रहार कर उनकी हत्या कर दी। मंगलवार सुबह जब ग्रामीण मंदिर में पहुंचे तो वहां साधुओं के खून से लथपथ शव पड़े मिले। इसे देखकर कोहराम मच गया। बड़ी संख्या में ग्रामीण मंदिर पर पहुंच गए। गांववालों ने आरोपी को पकड़ लिया। इस सूचना के बाद पूरे इलाके में भारी भीड़ जमा हो गई।

चिमटे को लेकर हुआ था विवाद

पुलिस ने भी मौके पर पहुंचकर आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि आरोपी आदतन नशेड़ी है। बुलंदशहर के एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने हत्या का कारण बताते हुए कहा कि, ‘आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। शुरुआती जांच में पता चला है कि कुछ दिन पहले आरोपी ने साधुओं का चिमटा चुरा लिया था, जिसे लेकर साधुओं ने उसे डांट फटकार लगा दी थी। इसके बाद आरोपी ने आज दोनों साधुओं की हत्या कर दी।’ साधुओं के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिये भेज दिया गया है।

गिरफ्तारी के समय भी नशे में था आरोपी

हालांकि, आरोपी का कहना है कि उसने डंडे से साधुओं की हत्या की है। जिले के डीएम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि, साधुओं की हत्या के आरोपी ने पूछताछ में कहा कि, ‘भगवान की इच्छा थी, रात में वे मंदिर गए थे। वहां साधुओं के पास डंडा पड़ा था, जिससे उन्होंने उनकी हत्या कर दी।’ उन्होंने यह भी कहा कि, ‘आरोपी से पूछताछ के बाद अपराध कबूल किया है। गिरफ्तारी के वक्त भी वो नशे में था।’

सीएम योगी ने घटना की मांगी रिपोर्ट

राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ग्राम पगौना, थाना अनूपशहर, जनपद बुलंदशहर में हुई हत्या की घटना का संज्ञान लिया है। उन्होंने जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों को तुरंत मौके पर पहुंच कर घटना के संबंध में विस्तृत आख्या देने और दोषियों के विरुद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई सुनिश्चित करने निर्देश दिए हैं।

प्रियंका गांधी का ट्वीट

इस मामले में कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने भी ट्वीट कर कहा कि, ‘अप्रैल के पहले 15 दिनों में ही यूपी में सौ लोगों की हत्या हो गई। तीन दिन पहले एटा में पचौरी परिवार के 5 लोगों के शव संदिग्ध परिस्थितियों में पाए गए। कोई नहीं जानता उनके साथ क्या हुआ? आज बुलंदशहर में एक मंदिर में सो रहे दो साधुओं को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया। ऐसे जघन्य अपराधों की गहराई से जांच होनी चाहिए और इस समय किसी को भी इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए।’

10 दिन पहले दो साधुओं की पीटकर हत्या की गई थी

इससे पहले महाराष्ट्र के पालघर में 16-17 अप्रैल की दरमियानी रात दो साधुओं और उनके ड्राइवर की भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। ग्रामीणों ने राह से जा रहे साधुओं को चोर समझकर उनकी पिटाई कर दी। मौके पर पुलिसकर्मी भी बेबस नजर आए थे। मामले में 100 से अधिक लोग गिरफ्तार किए गए हैं।

ये भी पढ़े…

पालघर मॉब लिंचिंग: एक अफवाह ने ले ली दो साधुओं समेत तीन बेगुनाहों की जान, अखाड़ा परिषद ने दी आंदोलन की चेतावनी

अंधविश्वास की हद पार, दिव्यांगता ठीक करने के लिए बच्चों को जमीन में गाड़ा

अंधविश्वास का कहर : कुत्ते के काटने पर युवक को घरवालों ने 3 दिन तक खूंटे से बांधकर रखा

Related posts