150 फीट गहरे बोरवेल में गिरा था दो साल का बच्चा, 109 घंटे बाद बाहर निकाला गया, नहीं बची जान

fatehveer singh,punjab,borewell

चैतन्य भारत न्यूज

चंडीगढ़. पंजाब के संगरूर में करीब 150 फीट गहरे बोरवेल में गिरे 2 साल के फतेहवीर सिंह को मंगलवार सुबह करीब 109 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद निकाला गया। लेकिन फतेहवीर जिंदगी की जंग हार गया। फतेहवीर को सुबह करीब 5:15 बजे बोरवेल से बाहर निकाला गया था। इसके बाद उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

जानकारी के मुताबिक, भगवानपुरा गांव का रहने वाला फतेहवीर गुरुवार शाम करीब चार बजे खेलते समय अपने घर के पास एक सूखे पड़े बोरवेल में गिर गया था। दरअसल, बोरवेल कपड़े से ढका हुआ था जिससे समझ नहीं आया कि वहां क्या है। इसलिए बच्चा दुर्घटनावश उसमें गिर गया। फतेहवीर के बोरवेल में फंसे होने की सुचना मिलते ही एनडीआरएफ की टीम ने तुरंत बचाव कार्य शुरू कर दिया था। बच्चे को बचाने के लिए बोरवेल के समांतर एक दूसरा बोरवेल खोदा। फिर उसमें कंक्रीट के बने 36 इंच के पाइप डाले गए जिसकी मदद से फतेहवीर को बाहर निकाला।

बोरवेल के अंदर ऑक्सीजन की सप्लाई बढ़ा दी थी। लेकिन उस तक खाना-पीना नहीं पहुंच सका था। फतेहवीर पर नजर रखने के लिए एक कैमरा भी लगाया गया था। फतेहवीर को बचाने के लिए मौके पर एनडीआरएफ के 26 सदस्य मौजूद थे। साथ ही घटनास्थल पर चौबीसों घंटे डॉक्टरों की टीम और एंबुलेंस तैनात थी। बोरवेल में गिरने के 40 घंटे बाद यानी शनिवार को फतेहवीर के शरीर में कुछ हलचल भी देखी गई थी। अपनी नन्ही-सी जान को बचाने के लिए फतेहवीर के माता-पिता और परिवार के अन्य सदस्यों ने ख्वाजा पीर के दर पर माथा टेका था और उसके सुरक्षित बाहर आने की दुआ मांगी थी।

109 घंटे लंबा रेस्क्यू ऑपरेशन चलाने के बाद जब बच्चे को बोरवेल से बाहर निकाला गया तब उसकी हालत नाजुक थी। बच्चे के शरीर में सूजन भी आ गई थी। लेकिन अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। बता दें 10 जून को फतेहवीर का जन्मदिन था।

 

Related posts