26/11 हमले के 12 साल पूरे, 10 आतंकियों ने दहला दी थी पूरी मायानगरी, 166 से ज्यादा लोगों की गई थी जान

mumbai terror attacks,mumbai,mumbai hamla

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. देश के इतिहास में सबसे भीषण आतंकी हमले 26/11 की आज 12वीं बरसी है। 26 नवंबर 2008 को 10 पाकिस्तानी आतंकवादियों ने मुंबई समेत पूरे देश को दहला दिया था। हर साल 26 नवंबर को आतंकी हमले का जख्म हरा हो जाता है। इस आतंकी हमले में जिन्होंने अपनों को खोया है उन्हें आज भी अधुरेपन का एहसास होता है। भारत में यह सबसे बड़ा आतंकी हमला था। इस हमले में 166 से ज्यादा लोगों ने अपनी जान गंवाई थी। हमले की 12वीं बरसी पर राजनीतिक दलों नेताओं ने 26/11 के आतंकवादी हमलों में अपनी जान गंवा चुके लोगों को श्रद्धांजलि दी है। कहा जाता है कि सुरक्षा बलों ने पाकिस्तान से आए 10 आतंकियों के साथ करीब 60 घंटे तक मुठभेड़ की थी। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि आतंकी पागलों की तरह हर तरफ गोलियां बरसा रहे थे। उससे पूरी मुंबई में दहशत का माहौल था।



mumbai terror attacks,mumbai,mumbai hamla

नाव के रास्ते मुंबई में घुसे थे आंतकवादी 

कहते हैं कि 10 हमलावर कराची से नाव के रास्ते मुंबई में घुसे थे। इस नाव पर चार भारतीय सवार थे, जिन्हें किनारे तक पहुंचते-पहुंचते खत्म कर दिया गया। रात के तकरीबन आठ बजे थे, जब ये हमलावर कोलाबा के पास कफ परेड के मछली बाजार पर उतरे। वहां से वे चार ग्रुपों में बंट गए और टैक्सी लेकर अपनी मंजिलों का रूख किया।

मछुवारों को था शक 

मुंबई हमलों की छानबीन से जो कुछ सामने आया है, वह बताता है कि इन लोगों की आपाधापी को देखकर कुछ मछुवारों को शक भी हुआ और उन्होंने पुलिस को जानकारी भी दी। लेकिन इलाके की पुलिस ने इस पर कोई खास तवज्जो नहीं दी और न ही आगे बड़े अधिकारियों या खुफिया बलों को जानकारी दी।

mumbai terror attacks,mumbai,mumbai hamla

मुंबई की वो दहशत वाली शाम

26 नवंबर 2008 की शाम मुंबई अपने शबाब पर थी। हर शाम की तरह ये शाम भी गुलजार होने जा रही थी कि अचानक शहर के एक हिस्से में अंधाधुंध गोलियां चलने लगी। हमले की शुरुआत लियोपोल्ड कैफे और छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) से हुई थी। पहले पहल तो किसी को भी यह अंदाजा नहीं था कि यह हमला इतना बड़ा हो सकता है। लेकिन धीरे-धीरे मुंबई के और इलाकों से धमाकों और गोलीबारी की खबरें आने लगी थीं। आधी रात होते-होते मुंबई शहर आतंक का असर नजर आने लगा था। खबरों के मुताबिक, मुंबई के सबसे व्यस्ततम रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी टर्मिनस पर आतंकियों ने हैंड ग्रेनेड भी फेंके थे। जिसकी वजह से 58 बेगुनाह यात्री मौत की आगोश में समा गए थे। जबकि कई लोग गोली लगने और भगदड़ में गिर जाने की वजह से घायल हो गए थे। इस हमले को अजमल आमिर कसाब और इस्माइल खान नाम के आतंकियों ने अंजाम दिया था।

mumbai terror attacks,mumbai,mumbai hamla

होटल ताज में चली थी सबसे लंबी मुठभेड़

26 नवंबर की रात को यहां आतंकियों ने कई मेहमानों को बंधक बना लिया था, जिनमें सात विदेशी नागरिक भी शामिल थे। ताज होटल के हेरीटेज विंग में आग लगा दी गई थी। 27 नवंबर की सुबह एनएसजी के कमांडो आतंकवादियों का सामना करने पहुंच चुके थे। कहा जाता है सबसे पहले होटल ओबेरॉय में बंधकों को मुक्त कराकर ऑपरेशन 28 नवंबर की दोपहर को खत्म हुआ था, और उसी दिन शाम तक नरीमन हाउस के आतंकवादी भी मारे गए थे। लेकिन होटल ताज के ऑपरेशन को अंजाम तक पहुंचाने में 29 नवंबर की सुबह तक का समय लग गया था। आतंकियों के खिलाफ मुंबई में 11 जगहों पर पुलिस और सुरक्षा बलों ने कार्रवाई की थी।

mumbai terror attacks,mumbai,mumbai hamla

हमले में शहीद हुए थे 11 जवान

मुंबई के आतंकी हमले को नाकाम करने के अभियान में मुंबई पुलिस, एटीएस और एनएसजी के 11 लोग वीरगति को प्राप्त हो गए थे। जिनमें प्रमुख हेमंत करकरे, एसीपी अशोक कामटे, एसीपी सदानंद दाते, एसआई दुदगुड़े, एएसआई नानासाहब भोंसले, एएसआई तुकाराम ओंबले, कांस्टेबल विजय खांडेकर, जयवंत पाटिल, योगेश पाटिल, अंबादोस पवार और एम.सी. चौधरी, एनएसजी के कमांडो मेजर संदीप उन्नीकृष्णन, एनकाउंटर स्पेशलिस्ट एसआई विजय सालस्कर, इंसपेक्टर सुशांत शिंदे, एसआई प्रकाश मोरे, शामिल थे।

Related posts