29 जिलों से पहुंची फोर्स, थल से लेकर नभ तक रहेगा सुरक्षा का अचूक घेरा

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में 29 जिलों की पुलिस फोर्स लगाई गई है। सोमवार को एसपीजी के अलावा एटीएस के कमांडों ने भी मोर्चा संभाल लिया। एयरपोर्ट से लेकर संगम नोज तक चप्पे-चप्पे पर पुलिस की नजर रहेगी। कार्यक्रम स्थल के आसपास सीसीटीवी कैमरे से नजर रखी जा रही है। आईट्रिपलसी की मदद से उसे लखनऊ कंट्रोल रूम से भी लिंक किया गया, ताकि वहां से भी निगरानी की जा सके।

बाहर से आने वाली पुलिस फोर्स के आमद करने के बाद पुलिस लाइस से उन्हें ड्यूटी कार्ड दिया गया। इसके बाद सोमवार दोपहर में एडीजी, आईजी और डीआईजी परेड मैदान में बने कार्यक्रम स्थल से पुलिसकर्मियों को ब्रीफ किया गया। पुलिस अफसरों ने मंच से ही पुलिसकर्मियों की ड्यूटी प्वाइंट चेक करने के लिए उनकी हाजिरी ली। नाम लेकर पुलिसकर्मियों को पुकारा गया ताकि पता चल सके कि कहीं कोई पुलिसकर्मी गायब तो नहीं है। डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि सुरक्षा के मद्देनजर उन्हें बताया गया कि कार्यक्रम स्थल के अंदर प्रवेश करने वाले सभी व्यक्तियों की जांच होनी चाहिए। संदिग्धों पर नजर रखेंगे। इस दौरान कोई व्यक्ति बिजली के खंभों या पेड़ पर भी चढ़ने न पाए। अराजक तत्वों पर नजर रखने के लिए सादे में पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। सोमवार रात में पुलिस लाइन में अंतिम ब्रीफिंग की गई।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता रहेगी। राज्य और केंद्रीय खुफिया एजेंसियां अलर्ट मोड पर हैं। स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप (एसपीजी) के साथ ही नौ हजार से अधिक पुलिसकर्मी तैनात रहेंगे। इसके अलावा आरएएफ और पीएसी के जवान भी जगह-जगह मुस्तैद नजर आएंगे। प्रधानमंत्री की सुरक्षा थ्री लेयर में करने की बात कही जा रही है। आंतरिक सुरक्षा की पहली लेयर में एसपीजी कमांडो तैनात रहेंगे, जबकि दूसरी और तीसरी सुरक्षा लेयर में एटीएस के कमांडो, केंद्रीय खुफिया एजेंसी, सेंट्रल पैरामेलेट्री फोर्स के जवानों की तैनाती की जाएगी। कार्यक्रम स्थल के आसपास बहुमंजिला इमारतों पर पुलिस फोर्स तैनात होगी। साथ ही दूरबीन और ड्रोन से आसमान से लेकर जमीन तक सुरक्षा पर नज़र रखी जाएगी।

दो हजार महिला सिपाहियों ने संभाला मोर्चा

प्रयागराज। प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में पहली बार महिला सिपाहियों की ड्यूटी पर जोर दिया गया है। प्रयागराज में तैनात महिला अफसर सीओ दारागंज आस्था जायसवाल हैं, जो शुरू से ही कार्यक्रम में ड्यूटी कर रही हैं। डीआईजी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने बताया कि विभिन्न जिलों से लगभग दो हजार महिला सिपाहियों को ड्यूटी पर लगाया गया है। बसों से महिला लाभार्थियों को लाने के दौरान भी महिला सिपाहियों की ड्यूटी लगी थी। जहां पर महिलाओं को विश्राम दिया गया है, वहां भी महिला पुलिसकर्मी सुरक्षा में लगी है। मंगलवार को भी कार्यक्रम स्थल पर महिला सिपाहियों को तैनात किया गया है।

स्ननाइपर भी रहेंगे कई जगहों पर मुस्तैद

प्रधानमंत्री को देश विरोधी ताकतों से हमेशा खतरा रहता है। इसलिए सुरक्षा के सभी पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। कार्यक्रम को सकुशल संपन्न कराने के लिए नौ हजार से अधिक पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई है। जरूरी स्थानों अचूक निशानेबाज (स्नाइपर) तैनात किए जाएंगे। बम निरोधक दस्ता (बीडीएस) और एंटी सबोटाज की टीम भी कार्यक्रम स्थल पर मुस्तैद रहेगी। पुलिसकर्मियों को निर्देश दिए जा रहे हैं कि वे एंट्री प्वांइट पर मुस्तैदी से डटे रहेंगे। अधिकांश एंट्री प्वांइट पर महिला पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई जा रही हैं। माचिस, किसी तरह का ज्वलनशील पदार्थ, काला कपड़ा न ले जाने के निर्देश दिए जा रहे हैं। सभी महिलाओं को निर्धारित स्थानों पर बैठाया जाए। इसमें किसी प्रकार की चूक नहीं होनी चाहिए।

300 से अधिक लगाए जाएंगे अस्थाई सीसीटीवी

कार्यक्रम स्थल पर 300 से अधिक अस्थाई सीसीटीवी लगाए जाएंगे। यहीं पर कंट्रोल रूम भी बनेगा, जहां से इन सीसीटीवी  कैमरों से संदिग्धों पर नजर रखी जाएगी। कंट्रोल रूम में एक आइपीएस रैंक के अफसर के साथ ही डीएसपी समेत बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी तैनात होंगे। इसके अलावा शहर में इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर आइट्रिपलसी के जरिए संदिग्धों पर पैनी नजर रखी जाएगी। पुलिसकर्मियों को निर्देश दिया जा रहा है कि वे किसी व्यक्ति की संदिग्ध हरकत करते देखें तो तत्काल अफसरों को इसकी जानकारी दें।

Related posts