कोरोना वैक्सीनेशन अभियान 16 जनवरी से शुरू, पहले दिन 3 लाख लोगों को लगेगा कोरोना का टीका

चैतन्य भारत न्यूज

सभी देशवासी कोरोना वैक्सीन का इंतजार कर रहे हैं। सरकार ने भी अपने स्तर पर सभी तैयारियां पूरी कर ली है। देशभर में कोरोना वैक्सीनेशन प्रोग्राम 16 जनवरी से शुरू होने जा रहा है। पहले चरण में 3 करोड़ लोगों को वैक्‍सीन लगाई जाएगी। इन 3 करोड़ लोगों में हेल्थ वर्कर्स और फ्रंट लाइन वर्कर्स शामिल हैं। देशभर में 2,934 स्थानों पर वैक्सीन लगाए जाने का काम शुरू किया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार, एक केंद्र पर एक टीकाकरण सत्र में औसतन 100 लोगों को ही टीका लगाया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार के दिन बताया कि, ‘राज्यों को सलाह दी गई है कि वे प्रत्येक टीकाकरण सत्र में औसतन 100 लोगों को ही टीका प्रदान करें, प्रत्येक साइट पर एक दिन में अनुचित संख्या में वैक्सीन न लगाने और हड़बड़ी न करने को लेकर राज्यों को निर्देश दिए गए हैं।’

केंद्र सरकार द्वारा सभी राज्यों को ज्यादा से ज्यादा वैक्सीनेशन साइट्स बनाने की सलाह दी गई है जिससे कि टीकाकरण की एक सरल और स्थाई प्रक्रिया चलती रहे। मंगलवार के दिन सरकार ने संकेत दिए कि स्वास्थ्यकर्मियों के पास विकल्प होगा कि वे किस कंपनी की वैक्सीन लगवाना चाहते हैं, फिलहाल उनके पास दो वैक्सीनों के विकल्प हैं। एक कोविशील्ड वैक्सीन का जिसका निर्माण सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा किया जा रहा है, दूसरा विकल्प है कोवैक्सीन का जिसका निर्माण भारत बायोटेक कंपनी द्वारा किया जा रहा है। दोनों ही कंपनियों के इस्तेमाल को बीते दिनों आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमति दे दी गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया है कि टीकाकरण की प्रक्रिया एकदम स्वैच्छिक है अगर कोई स्वास्थ्यकर्मी टीका लगवाने से मना करता है तो उसपर टीका लगवाने की कोई बाध्यता नहीं है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि ‘कई सारे देशों में एक से अधिक वैक्सीन का उपयोग किया जा रहा है लेकिन वर्तमान में ऐसा कोई देश नहीं है जो वैक्सीन की डोज चूज करने का विकल्प देता हो।’

 

 

Related posts