पड़े-पड़े सड़ने लगा था 300 किलो की महिला का शरीर, दुबई में रहने वाला पति ने लगाई मदद की गुहार, 10 लोगों ने मिलकर अस्पताल पहुंचाया

चैतन्य भारत न्यूज

राजकोट. वो कहते है न मोटापा बीमारियों का घर होता है। यह अच्छे-खासे इंसान को बिस्तर पर ला देता है। ऐसा ही कुछ राजकोट की सरलाबेन चित्रोड़ा के साथ हुआ। उनका वजन है 300 किलो। इस वजह से वह हिलडुल भी नहीं पाती थीं। एक ही जगह पर पड़े-पड़े उनका शरीर सड़ने लगा था। ऐसे में उनके दुबई में रहने वाले उनके पति ने एक संगठन से मदद मांगी थी। इसके बाद सरला बेन को अस्पताल पहुंचाया गया।

300 किलो वजनी सरलाबेन की स्थिति इतनी खराब थी कि वो कई बार एक ही स्थान पर एक ही स्थिति में 15 से 20 दिन तक पड़ी रहती हैं। इस वजह से उन्हें असहनीय दर्द होने लगा। पति द्वारा मदद की गुहार के बाद साथी सेवा ग्रुप ने उन्हें अस्पताल ले जाने के लिए दो-तीन एंबुलेंस भी मंगवाई। लेकिन मोटापे की वजह से उन्हें एंबुलेंस से ले जाना संभव नहीं था। फिर बाद में उन्हें फायर विभाग की मदद से राजकोट सिविल अस्पताल अस्पताल पहुंचाया गया। उन्हें उठाने के लिए करीब 10 लोगों की जरूरत पड़ी।

जानकारी के मुताबिक, उनका पैर फट चुका है और शरीर का काफी हिस्सा खराब हो गया है। उनकी स्थिति बेहद गंभीर है। बता दें सरलाबेन के पति कांतिभाई पित्रोदा दुबई में मजदूरी करते हैं। वो पिछले 10 साल से घर नहीं आए थे। अभी जब उन्हें पत्नी का पता चला तो उन्होंने NGO से मदद मांगी। जब सरलाबेन अस्पताल में भर्ती हुई तो कांतिभाई भी आ गए। इनका 13 साल का बेटा है, जो अपनी मां की सेवा में लगा रहता है।

राजकोट सिविल अस्पताल के डॉक्टरों ने बताया है कि सरलाबेन का इलाज करने के लिए उन्हें अहमदाबाद के अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। इसके लिए भी साथी सेवा ग्रुप ने सहमति जताई है। ये संस्थान सरलाबेन की मदद करेगी।

Related posts