5 बच्चों ने किया मानसिक रूप से विकलांग युवती का गैंगरेप, वीडियो भी बनाया, लेकिन नहीं चलेगा केस!

rape,gang rape,Germany

चैतन्य भारत न्यूज

एक 18 साल की युवती का 5 बच्चों ने मिलकर शुक्रवार देर शाम पार्क में गैंगरेप किया। आरोपी बच्चों में से दो की उम्र 12 साल है। इस वजह से उन दोनों के खिलाफ आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जा सकता। जबकि तीन किशोर की उम्र 14 साल है। बच्चों ने पीड़िता का गैंगरेप करने के बाद उसका वीडियो भी बना लिया।

ये हैरान कर देने वाला मामला जर्मनी का है। पुलिस ने तो इस घटना से जुड़ी ज्यादा जानकारी नहीं दी लेकिन स्थानीय मीडिया के जरिए घटना के बारे में पता चला। इस घटना के सामने आने के बाद जर्मनी में आपराधिक मुकदमे के लिए उम्र सीमा घटाने की मांग भी तेज हो गई है। शुक्रवार देर शाम जर्मनी के मुलहेम में पीड़ित युवती बरामद की गई। जानकारी के मुताबिक, पीड़िता मानसिक रूप से विकलांग थी। घटना के बाद सभी आरोपी बच्चों को स्कूल से सस्पेंड कर दिया गया है।

जर्मनी के मौजूदा कानून के मुताबिक, 12 साल के दो संदिग्ध बच्चों पर आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जाएगा, लेकिन उनके गलत व्यवहार को लेकर यूथ वेलफेयर ऑफिस काम करेगा। बता दें जर्मनी में आपराधिक मुकदमे के लिए न्यूनतम उम्र सीमा 14 वर्ष है। सभी संदिग्ध बच्चे मूल रूप से बुल्गारिया के रहने वाले बताए गए हैं। सूत्रों के मुताबिक, पीड़िता को बच्चे झाड़ियों में ले गए और फिर उन्होंने अपने-अपने फोन से वीडियो बनाया। जब कुत्तों के लगातार भौंकने की आवाज आई तो स्थानीय लोगों ने पुलिस को बुलाया। पुलिस को देखते ही आरोपी बच्चे तुरंत वहां से भाग निकले। पुलिस अधिकारी के मुताबिक, पीड़िता के साथ काफी अधिक हिंसा की गई है।

घटना के तुरंत बाद पीड़िता को अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसने संदिग्ध बच्चों के बारे में पुलिस को जानकारी दी जिसके बाद पुलिस बच्चों तक पहुंच पाई। एक अधिकारी ने बताया कि, ‘हम सालों से आपराधिक जिम्मेदारी तय करने के लिए उम्र सीमा घटाए जाने की मांग करते रहे हैं।’ इस घटना के बाद जर्मनी के एसोसिएशन ऑफ जज की प्रमुख जेन्स ग्निसा ने कहा कि, ‘अधिक सजा से अपराध कम होने का समीकरण युवाओं पर काम नहीं करता है।’ दुनियाभर में इस घटना की निंदा की जा रही है। साथ ही सोशल मीडिया पर भी आरोपी बच्चों को सजा दिलाने की मांग हो रही है। बता दें इंग्लैंड और उत्तरी आयरलैंड में कम से कम 10 साल की उम्र के बच्चों पर क्रिमिनल केस चलाया जा सकता है।

 

 

Related posts