फ्रांस से 5 राफेल विमानों ने भरी उड़ान, 7364 किमी सफर तय कर 29 जुलाई को पहुंचेंगे भारत, जानिए इस लड़ाकू विमान की खासियत

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारत को मिलने वाले मल्टीरोल लड़ाकू विमान राफेल (Rafale Fighter jet) का इंतजार अब खत्म हो गया है। सोमवार को यानी आज 5 राफेल विमानों ने फ्रांस से भारत के लिए उड़ान भर ली है। इन विमानोंं ने दोपहर करीब 12:30 बजे फ्रांस के मेरिग्नाक बेस से भारत के लिए उड़ान भरी। यहीं पर राफेल विमान बनाने वाली कंपनी दसॉल्ट एविएशन की उत्पादन इकाई है। बुधवार को ये विमान भारत के अंबाला स्थित एयर फोर्स स्टेशन पहुंचेंगे।


इन विमानों को भारतीय वायुसेना के पायलट उड़ा रहे हैं। भारत आने के दौरान ये पांचों विमान संयुक्त अरब अमीरात में अबूधाबी के करीब अल-दफ्रा फ्रेंच एयरबेस पर रुकेंगे। अल दफ्रा एयरबेस की जिम्मेदारी फ्रांस एयरफोर्स के पास है। यहां पर राफेल विमानों की चेकिंग और फ्यूल भरा जाएगा। इसके बाद पांचों राफेल विमान 29 जुलाई की सुबह भारत पहुंचेंगे।

बता दें फ्रांस से खरीदे गए इन 5 राफेल में से दो ट्रेनर एयरक्राफ्ट हैं और तीन लड़ाकू विमान हैं। ये पांचों विमान 7364 किलोमीटर की हवाई दूरी तय करके अंबाला पहुंचेंगे। यह विमान विभिन्न प्रकार के शक्तिशाली हथियारों को ले जाने में सक्षम है। यूरोपीय मिसाइल निर्माता एमबीडीएस की मिटोर, स्कैल्प क्रूज मिसाइल, मीका हथियार प्रणाली राफेल जेट विमानों के हथियार पैकेज में शामिल होंगे।


गौरतलब है कि भारत ने फ्रांस से 36 राफेल विमान खरीदने की डील की है, जिसमें से पांच विमान की डिलीवरी दी जा रही है। भारत और फ्रांस के बीच हुए समझौते के अनुसार, दोनों देशों को कुल 36 वायुसेना पायलटों को फ्रेंच एविएटर्स द्वारा राफेल लड़ाकू जेट पर प्रशिक्षित किया जाना है। जहां अधिकांश वायुसेना के पायलटों को फ्रांस में प्रशिक्षित किया जाएगा, वहीं कुछ भारत में अभ्यास करेंगे। जो 5 विमान भारत आ रहे हैं इन्हें भारतीय पायलट ही उड़ाकर ला रहे हैं। पहली खेप में भारत को 10 लड़ाकू विमान डिलीवर किए जाने थे लेकिन विमान तैयार न हो पाने की वजह से फिलहाल पांच विमान भारत पहुंचेंगे।

Related posts