70 हजार लोगों को लगा दी गई फर्जी कोरोना वैक्सीन, 3300 रुपए थी तीन डोज की कीमत

चैतन्य भारत न्यूज

कोरोनावायरस संक्रमण को कम करने के लिए दुनिया भर में लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। हर देश जल्द से जल्द अपने नागरिकों तक वैक्सीन को पहुंचाना चाहता है। इस बीच दक्षिण अमेरिकी देश इक्वाडोर में लगभग 70000 लोगों को नकली कोरोना वैक्सीन लगाने के मामले का खुलासा हुआ है।

एक प्राइवेट क्लिनिक कोरोना की वैक्सीन लगाने के नाम पर मरीजों से प्रति खुराक करीब 1100 रुपए वसूल रहा था। कोरोना से पूरी तरह सुरक्षित होने के लिए लोगों को तीन खुराक लगवाने को कहा जा रहा था। यानी सभी खुराक के लिए लोगों को 3300 रुपए देने पड़ रहे थे।

क्लिनिक में लोगों को बताया गया कि वैक्सीन का तीन डोज कोरोना से लड़ने में पूरी तरह कारगर है। अधिकारीयों ने कहा कि, क्लिनिक के स्टाफ लोगों से कहते थे कि तीन डोज लेने के बाद ही कोरोना के खिलाफ इम्यून आयेगा। अब तक स्वास्थ्य अधिकारियों को इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि वैक्सीन के नाम से दिए जा रहे इंजेक्शन में कौन से पदार्थ का इस्तेमाल किया जा रहा था।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

रिपोर्ट में दावा किया गया कि एक अंडरकवर एजेंट ने क्लिनिक में एक वीडियो बनाया जिसमें अस्पताल की एक डॉ लुसिया पेनाफील यह कहते हुए देखी जा रही हैं कि यहां करीब 70 हजार लोगों को ट्रीटमेंट दिया गया है। इस वीडिया के सामने आने के बाद सुरक्षा अधिकारियों ने क्लिनिक पर छापेमारी की और डॉ लुसिया का बयान लिया। अपने बयान से पलटते हुए डॉ लुसिया ने कहा कि यहां लोगों को कोरोना वैक्सीन नहीं लगायी गयी है। डॉ लुसिया ने कहा कि यहां उन्हें विटामिन और सीरम की खुराके दी गयी है, जिससे उनका इम्यून मजबूत हो। स्थानीय लोगों ने क्लिनिक का बचाव किया है और कहा है यहां लोगों की जान बचायी गयी है। लोगों ने डॉक्टर का भी बचाव किया और कहा कि डॉक्टर यहां के लोगों के लिए भगवान हैं, उन्होंने कई जिंदगियां बचायी है। फिलहाल क्लिनिक बंद है और जांच चल रही है।

Related posts