भक्तों को दर्शन देने नौका विहार पर निकले भगवान बालाजी, 9 दिवसीय जल समारोह शुरू

tirupat

चैतन्य भारत न्यूज

तिरुमला. भारत में कई चमत्कारी और रहस्यमयी मंदिर हैं। इन्हीं में से एक है भगवान तिरुपति बालाजी का मंदिर। यह मंदिर आंध्र प्रदेश के तिरुमाला की पहाड़ियों पर स्थित है। लाखों लोग इस मंदिर में भगवान वेंकटेश्वर का आशीर्वाद लेने के लिए एकत्र होते हैं। हर साल 9 दिन तक तिरुमला में जल समारोह आयोजित किया जाता है। इस साल के जल समारोह की शुरुआत हो गई है।



तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) की चार पवित्र गलियों में शनिवार को माता भूदेवी और माता श्रीदेवी के साथ ही भगवान बालाजी की शोभायात्रा निकाली गई। इस शोभायात्रा को देखने के लिए लाखों की संख्या में लोग मौजूद थे। बता दें जल समारोह के जरिए नौका विहार करवाकर भक्तों को भगवान बालाजी के दर्शन करवाए जाते हैं। इस समारोह में शामिल होने दुनियाभर से लोग आते हैं। इस बार जल समारोह 13 मार्च तक चलेगा।

टीटीडी एक स्वतंत्र ट्रस्ट है। यह तिरुपति वेंकटेश्वर मंदिर का प्रबंधन करता है। यह ट्रस्ट दुनियाभर के दूसरे सबसे अमीर और सबसे लोकप्रिय धार्मिक केंद्रों के संचालन की देखरेख करता है। इस ट्रस्ट में फिलहाल 16 हजार से ज्यादा लोग कार्यरत हैं।

tirupati balaji

बता दें श्री वेंकटेश्वर का यह पवित्र व प्राचीन मंदिर तिरुमाला की पहाड़ियों पर वेंकटाद्रि नामक चोटी पर स्थित है। यह स्वामी पुष्करणी नामक तालाब के किनारे स्थित है। इस वजह से यहां पर बालाजी को भगवान वेंकटेश्वर के नाम से जाना जाता है। यह भारत के उन चुनिंदा मंदिरों में से एक है जिसके पट सभी धर्मानुयायियों के लिए खुले हुए हैं। यहां हर वर्ग के लाखों श्रद्धालु भगवान का आशीर्वाद लेने आते हैं। फिल्मी सितारों से लेकर राजनेता आदि सभी तिरुपति बालाजी के दर्शन करने यहां आते हैं।

ये भी पढ़े…

तिरुपति बालाजी मंदिर में उमड़ी भक्तों की भीड़, एक दिन में आया 3 करोड़ से ज्यादा का चढ़ावा

तिरुपति बालाजी मंदिर के पास है नौ हजार किलो से भी ज्यादा सोना, कीमत जानकार हैरान हो जाएंगे आप

 

Related posts