देश का एकमात्र ऐसा मंदिर जहां गजमुख नहीं बल्कि इंसान के रूप विराजमान हैं भगवान गणेश

adi vinayak mandir

चैतन्य भारत न्यूज

गणेश चतुर्थी की शुरुआत हो चुकी हैं। इस मौके पर हम आपको रोजाना भगवान गणेश के विश्वभर में प्रसिद्द कुछ खास मंदिरों के बारे में बताएंगे। इस कड़ी में हम आपको आज भगवान गणेश के एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां वे गजमुख न होकर इंसान के रूप में हैं।

तमिलनाडु के कूटनूर से लगभग 2 कि.मी. की दूरी पर तिलतर्पणपुरी नामक स्थान पर भगवान गणेश का आदि विनायक मंदिर है, जहां वे इंसान के चेहरे में विराजित हैं। इस मंदिर की एक खूबी ये भी है कि, यह ऐसा एक मात्र गणेश मंदिर है जहां लोग अपने पितरों की शांति के लिए पूजन करने भी आते हैं। मान्यता है कि, इस जगह पर भगवान श्रीराम ने भी अपने पूर्वजों की शांति के लिए पूजा की थी। इसी परंपरा के चलते आज भी कई भक्त अपने पूर्वजों की शांति के लिए यहां पूजा करने आते हैं। तमिलनाडु में मौजूद ये मंदिर भले ही बहुत भव्य न हो लेकिन ये अपनी इस खूबी के लिए दुनिया भर में प्रसिद्द है।

बता दें इस मंदिर के साथ-साथ यहां सरस्वती मंदिर भी है। सरस्वती मंदिर को कवि ओट्टकुठार ने बनवाया था। यहां आने वाले भक्त सरस्वती मंदिर के दर्शन किए बिना नहीं जाते हैं। मंदिर परिसर में भगवान शिव का भी मंदिर बना है। इस मंदिर से बाहर निकलते ही श्रीगणेश का नरमुखी मंदिर स्थित है।

तिलतर्पणपुरी का अर्थ

इस जगह का नाम तिलतर्पणपुरी पड़ने के पीछे भी एक बड़ा कारण है। तिलतर्पणपुरी दो शब्दों के मेल से बना है। पहला तिलतर्पण और दूसरा पुरी। तिलतर्पण का अर्थ होता है- पूर्वजों को समर्पित और पुरी का अर्थ होता है शहर, यानी इस जगह का मतलब ही है पूर्वजों को समर्पित शहर।

ये भी पढ़े…

खजराना गणेश मंदिर में मन्नत पूरी करने के लिए शास्त्रों के विपरीत काम करते हैं भक्त, 3 करोड़ का सोना पहनते हैं भगवान

शाकाहारी मगरमच्छ करता है इस मंदिर की रखवाली, खाता है सिर्फ प्रसाद

मत्सरासुर का वध करने के लिए भगवान गणेश ने लिया था वक्रतुण्ड अवतार, बड़ी रोचक है कहानी

गणेश चतुर्थी : इन चीजों को अर्पित करने से खुश होते हैं बप्पा, पूरी होती है सभी मनोकामनाएं

Related posts