कोटा में भी वैक्सीन लगवाने के बाद महिला-पुरुष के शरीर से चिपका लोहा, CMHO ने कहा- भारी सामान नहीं; यह सामान्य वैज्ञानिक प्रक्रिया है

चैतन्य भारत न्यूज

महाराष्ट्र के नासिक जिले में एक परिवार ने दावा किया था कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लेने के बाद उनके परिवार के एक सदस्य के शरीर में चुंबकीय शक्ति पैदा हो गई। यह मामला चर्चाओं में बना ही था कि इसी बीच कोटा में एक पुरुष और एक महिला ने शरीर में चुम्बकीय शक्ति पैदा होने का दावा किया गया था।

महिला और पुरुष की जांच के लिए CMHO की टीम दोनों के घर पहुंची। डॉ. विजय जैन और नर्सिंग ट्यूटर मुकेश धाकड़ ने इसकी बारीकी से पड़ताल की। उन्होंने सज्जन सिंह नामक शख्स के शरीर पर सिक्के, छोटी कैंची समेत लोहे-स्टील के कई आइटम चिपकाकर देखे। इनमें पाया गया कि शरीर पर हल्का सामान ही कुछ देर के लिए चिपका।

CMHO डॉ बीएस तंवर ने दोनों के दावे को सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि, ‘अगर मैग्नेटिक इफेक्ट होगा तो केवल लोहे की चीजें शरीर पर चिपकेंगी स्टील की नहीं। शरीर पर पसीने की वजह से हल्के भार की वस्तुओं का कुछ देर के लिए चिपकना सामान्य वैज्ञानिक प्रक्रिया है। टीम ने दोनों शिकायतकर्ताओं और उनके पड़ोसियों को समझा दिया है। वैक्सीनेशन का इन चीजों से कोई संबंध नहीं है बिना हिचक बिना डरे वैक्सीन लगवाएं।

वैक्सीन लगवाने के बाद लोहा चिपकने का दावा किया था

शुक्रवार को आरकेपुरम निवासी सज्जन सिंह ने वैक्सीन की डोज लेने के बाद उनके शरीर में चुम्बकीय शक्ति पैदा होने का दावा किया था। उनके शरीर पर सिक्के, लोहे का पेन ड्राइव, कैंची, सुई बाइक की चाबी आसानी से चिपक जा रहे हैं। इसके बाद उनकी पड़ोसी लता ने भी अपने हाथ पर सिक्के, पैन ड्राइव, कैंची, मोबाइल चिपकने का दावा किया था। लता ने दो माह पहले वैक्सीन लगवाई थी, जबकि सज्जन सिंह ने 24 मई को वैक्सीन की पहली डोज ली थी।

Related posts