UP: 34 यात्रियों से भरी बस हाइजैक करके ले गए बदमाश, झांसी में मिली लोकेशन, कहानी में आया नया ट्विस्ट

चैतन्य भारत न्यूज

आगरा में दक्षिणी बाईपास पर महुअर के पास मंगलवार देर रात गुड़गांव से पन्ना जा रही स्लीपर कोच बस को बोलेरो सवार बदमाशों ने हाईजैक कर लिया। बस में 34 सवारियां थीं। कहा जा रहा था कि फाइनेंस कंपनी वालों ने बस को यात्रियों के साथ अगवा कर लिया था लेकिन अब सामने आ रहा है कि बस तो फाइनेंस ही नहीं थी। बताया जा रहा है कि लेन-देन के विवाद में वारदात को अंजाम दिया गया।

थाना मलपुरा क्षेत्र में अज्ञात कार सवारों ने बस के ड्राइवर और कंडक्टर को उतारकर बस को अगवा किया था। राहत की बात यह है कि बस का पता चल गया है। बस इटावा से बरामद हुई है और यात्री सुरक्षित हैं। पूरे मामले पर सख्त रुख अपनाते हुए सीएम योगी और यूपी के गृह मंत्रालय ने भी रिपोर्ट तलब की है। सरकार और पुलिस ने भरोसा दिलाया है कि 34 यात्रियों से भरी बस को अगवा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बताया जा रहा है कि अगवा बस इटावा में मिली है। बस के सभी यात्री एमपी के छतरपुर में सकुशल मिले हैं। इटावा के बलरई थाने के लखेरा गांव के पास बस एक ढाबे पर मिली है। उधर आगरा के एसएसपी ने बताया कि बस यात्रियों तक आगरा पुलिस पहुंच गई है। पुलिस ने यात्रियों से बात की है और चिंता की कोई बात नहीं है। अब पता चल रहा है कि फाइनेंस कर्मियों ने बस को हाईजैक नहीं किया था।

जानकारी के मुताबिक, फिरोजाबाद के प्रदीप गुप्ता नाम के शख्स ने बस को अगवा कराया था। प्रदीप का बस मालिक से लेन-देन का विवाद था। बस मालिक की मंगलवार को कोरोना से मौत हो गई थी। ऐसे में प्रदीप गुप्ता को लगा कि उन्हें बकाया पैसा नहीं मिलेगा। इसलिए बस अगवा किया गया। वहीं श्रीराम फाइनेंस के रीजनल बिजनस हेड बीसी कटोच ने बस पर किसी भी लोन की बात से इनकार किया है।

Related posts