संतान सुख के लिए करें अहोई अष्टमी व्रत, जानिए इसका महत्व और पूजा-विधि

ahoi ashtami,ahoi ashtami 2019, ahoi ashtami ka mahatav,ahoi ashtami puja vidhi,ahoi ashtami vrat,ahoi ashtami vrta ke niyam

चैतन्य भारत न्यूज

अहोई अष्टमी व्रत कार्तिक कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रखा जाता है। इस बार अहोई अष्टमी व्रत 21 अक्टूबर को पड़ रहा है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के मुताबिक, महिलाएं संतान की प्रगति और स्वस्थ जीवन की कामना के साथ यह व्रत रखती हैं। आइए जानते हैं इस व्रत का महत्व और पूजा-विधि।



ahoi ashtami,ahoi ashtami 2019, ahoi ashtami ka mahatav,ahoi ashtami puja vidhi,ahoi ashtami vrat,ahoi ashtami vrta ke niyam

अहोई अष्टमी का महत्व

अहोई मां पार्वती का ही एक रूप माता है। यही वजह है कि इस दिन महिलाएं मां अहोई की पूजा करती हैं। अहोई का मतलब है किसी अशुभ घटना को शुभ में बदल देने वाला। मान्यता है कि ये व्रत रखने से अहोई मां संतान को लंबी उम्र का आशीर्वाद देती हैं। इस व्रत की पूजा शाम को तारों की छांव में की जाती है। ऐसा कहा जाता है कि इसी दिन से दिवाली के उत्सव का आरंभ हो जाता है। संतान की सलामती से जुड़े इस व्रत का बहुत महत्व है।

ahoi ashtami,ahoi ashtami 2019, ahoi ashtami ka mahatav,ahoi ashtami puja vidhi,ahoi ashtami vrat,ahoi ashtami vrta ke niyam

अहोई अष्टमी पूजा-विधि

  • सुबह के समय जल्दी उठकर स्नान आदि कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें।
  • इसके बाद घर के मंदिर की दीवार पर गेरू और चावल से अहोई माता यानी मां पार्वती का चित्र बनाएं।
  • अब एक नया मटका लें उसमें पानी भरकर रखें और उस पर हल्दी से स्वास्तिक बनाएं, अब मटके के ढक्कन पर सिंघाड़े रखें।
  • पूजा की सामग्री में एक चांदी या सफेद धातु की अहोई, चांदी की मोती की माला, जल से भरा हुआ कलश, दूध, हलवा और पुष्प, दीप आदि रखें।
  • सूर्यास्त के बाद तारे निकलने पर पूजन आरंभ करें।
  • इसके बाद चंद्रमा को अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करें।

ये भी पढ़े…

दिवाली से पहले इन 9 चीजों को घर लाने से होगा लाभ

इस बार दिवाली पर बन रहा है शुभ संयोग, जानिए मां लक्ष्मी की पूजा का मुहूर्त

त्योहारों से भरा है अक्टूबर का महीना, जानें किस दिन है दशहरा-दिवाली समेत कई महत्वपूर्ण तीज-त्योहार

Related posts