‘कारगिल का हीरो’ मिग-27 हुआ रिटायर, भव्य तरीके से हुई विदाई, पाकिस्तान कहता था ‘चुड़ैल’

mig 27

चैतन्य भारत न्यूज

जोधपुर. करीब 40 साल तक आसमान में पराक्रम दिखाने वाले वायुसेना का लड़ाकू विमान मिग-27 का शुक्रवार को सफर थम गया है। मिग-27 स्क्वाड्रन के सभी 7 विमानों ने राजस्थान के जोधपुर में आखिरी उड़ान भरी। बता दें मिग-27 ने कारगिल युद्ध में अहम भूमिका निभाई है।


पाकिस्तान में कहा जाता है ‘चुड़ैल’

मिग-27 के अंतिम विदाई के समय वायुसेना के कई बड़े अधिकारी मौजूद रहे। बता दें मिग-27 ने चार दशक तक भारत की वायुसेना की सेवा की है। कारगिल युद्ध के दौरान इसी विमान ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया था। पाकिस्तान में तो इसे चुड़ैल कहा जाता था। वायुसेना में मिग-27 को ‘बहादुर’ नाम कहकर बुलाया जाता है।

मिग-21 ने ली मिग-27 की जगह

इस लड़ाकू विमान की अंतिम विदाई को यादगार बनाने के लिए वायुसेना की सूर्यकिरण विमान की टीम जोधपुर पहुंची और उन्होंने वहां अपने करतबों के बीच मिग-27 को विदा किया गया। इस समारोह में मिग-27 के करीब 50 पुराने पायलट्स को आमंत्रण भेजा गया। वायुसेना में अब मिग-27 की जगह मिग-21 लड़ाकू विमान ने ले ली है।

ये हैं मिग-27 की खासियत

  • मिग-23 में बदलाव कर इसे मिग-27 बनाया गया था।
  • इसका सफर 38 साल पहले 1981 में जोधपुर एयरबेस से शुरू हुआ था।
  • मिग-27 को हवा से जमीन पर हमला करने का बेहतरीन विमान माना जाता है।
  • यह 1700 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ान भरने में सक्षम है।
  • मिग-27 एक साथ चार हजार किलो के हथियार ले जा सकता था।
  • इस विमान की क्षमता 780 किलोमीटर तक लक्ष्य भेदने की थी।
  • मिग-27 लड़ाकू विमान अब किसी देश की वायुसेना का हिस्सा नहीं।

क्यों हुई अंतिम विदाई

जानकारी के मुताबिक, मिग-27 विमान का इंजन आर-29 हमेशा से परेशानी का सबब बना रहा है। इसके इंजन की तकनीकी खामी कभी पूरी तरह से दूर नहीं की जा सकी। इसके कारण दुर्घटना होने की घटनाएं बहुत अधिक हो गई थी। पिछले 20 साल में हर साल दो विमान हादसे का शिकार हुए।

क्या होगा इन विमानों का

वायुसेना ने कहा कि, ‘पुराने मिग-27 विमानों का इस्तेमाल कहा होगा यह अब तक तय नहीं किया है। लेकिन इतना तय है कि इन्हें उड़ाया नहीं जा सकता। इन्हें महत्वपूर्ण रक्षा संस्थानों या सार्वजनिक स्थलों पर गौरव के रूप में प्रदर्शित किए जाने की संभावना है।’

ये भी पढ़े…

राफेल के बाद अमेरिका से 24 MH 60R मल्टी मिशन हेलिकॉप्टर खरीदेगा भारत, जानें क्या हैं इसकी खासियतें

राफेल के साथ पेरिस में दशहरा पर शस्त्र पूजन करेंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

विंग कमांडर अभिनंदन के नए लुक की खूब हो रही चर्चा, एयरफोर्स चीफ के साथ उड़ाया मिग-21

Related posts