एयर इंडिया के पायलट को झड़ते हुए बालों का इलाज करवाना पड़ा महंगा, 3 साल के लिए सस्पेंड

pilot,air india pilot,bald pilot

चैतन्य भारत न्यूज

एयर इंडिया के एक पायलट को अपने झड़ते हुए बालों का इलाज करवाना महंगा पड़ गया। इलाज के कारण पायलट का लाइसेंस रद्द कर दिया गया। पायलट का दावा है कि, पिछले साल उड़ान से पहले उनकी सांस की जांच में अल्कोहल का पता चला, जो उनके इलाज में इस्तेमाल होने वाले सीरम की वजह से था। इस वजह से उन्हें तीन साल के लिए सस्पेंड कर दिया गया। अब पायलट ने इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी है।

याचिका में पायलट ने कहा कि, ब्रेथ एनालाइजर (बीए) जांच में अल्कोहल का स्तर 0.16 से 0.20 आया था जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकार्य 0.40 के मानक से कम था। पायलट ने कहा कि, उसी दिन कुछ समय बाद उन्होंने एक प्राइवेट लैब में कराई गई खून की और यूरीन की जांच में अल्कोहल नहीं पाया गया था। प्राइवेट लैब की रिपोर्ट्स में उनके शरीर में अल्कोहल की मात्रा शुन्य बताई गई थी। इसलिए उन्होंने डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन और सिविल एविएशन मंत्रालय के आदेश के खिलाफ अपने सस्पेंड करने को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी। हाई कोर्ट ने दोनों ही पक्षों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा है।

पायलट ने कहा कि, उन्होंने अपने बालों का इलाज करवाने की जानकारी पहले ही दे दी थी। डॉक्टरों ने जो दवाई दी उसमें अल्कोहल की मात्रा बताई गई थी। नियम के मुताबिक, विमान चालक दल के सदस्यों को उड़ान से करीब 12 घंटे पहले शराब या कोई भी नशीले पदार्थ के सेवन करने पर पाबंदी होती है।

 

Related posts