4 दिन बाद जेल से बाहर आए आकाश विजयवर्गीय, कहा- मुझे अपने किए पर जरा भी शर्मिंदगी नहीं…

चैतन्य भारत न्यूज

भोपाल. भारतीय जनता पार्टी के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बेटे और विधायक आकाश विजयवर्गीय जेल से बाहर आ गए हैं। आकाश नगर निगम के अधिकारी की बैट से पिटाई करने के जुर्म में जेल गए थे। आकाश के जेल से बाहर आते ही समर्थकों ने ढोल नगाड़ों के साथ उन्हें फूल-माला पहनाकर जोरदार स्वागत किया। समर्थकों ने आकाश को जमानत मिलने की खुशी में हर्ष फायरिंग भी की।

जेल से बाहर आने के बाद आकाश को अपने किए का जरा भी पछतावा भी नहीं है। उन्होंने कहा कि, ‘जब पुलिस के सामने महिलाओं को घसीटा जा रहा हो, तो मैं यह सब कतई बर्दाश्त नहीं कर सका। अधिकारी जनता, खासकर महिलाओं का सम्मान करें और उनकी समस्याओं को सुनें। मुझे अपने किए पर जरा भी शर्मिंदगी नहीं है। लेकिन फिर भी हम अब गांधी जी के रास्ते पर चलने का प्रयास करेंगे, लेकिन मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वो दोबारा मुझे बल्लेबाजी करने का अवसर न दे।’

बता दें आकाश की जमानत शनिवार शाम को ही हो गई थी लेकिन कागजी प्रक्रिया पूरी न होने की वजह से आकाश जेल से बाहर नहीं आ सके थे। रविवार सुबह सभी कानूनी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद वह जेल से बाहर आए। जेल से बाहर आने के बाद आकाश ने यह भी कहा कि, ‘जेल में समय अच्छा गुजरा। मैं अपने क्षेत्र और जनता की बेहतरी के लिए काम करता रहूंगा।’

ये है मामला

बुधवार को जब गंजी कंपाउंड स्थित एक मकान को तोड़ने के लिए नगर निगम की टीम पहुंची थी। इस दौरान आकाश भी वहां पहुंच गए। उन्होंने नगर निगम अधिकारियों और कर्मचारियों को धमकी देते हुए 10 मिनट में वहां से निकल जाने को कहा और जेसीबी मशीन की चाबी निकाल ली। लेकिन इसके बाद मामला बहुत बढ़ गया और विधायक ने क्रिकेट के बल्ले से निगम कर्मचारी पर हमला कर दिया था। इसके बाद पुलिस ने आकाश के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया था। चार दिन जेल में रहने के बाद शनिवार को आकाश को जमानत मिली।

ये भी पढ़े… 

विधायक आकाश विजयवर्गीय को विशेष कोर्ट से मिली जमानत

बल्ला कांड के बाद गूगल सर्च में शीर्ष पर रहे आकाश विजयवर्गीय, दुनियाभर में हुए ट्रोल

निगम अधिकारी की पिटाई करने वाले विधायक आकाश विजयवर्गीय के समर्थन में लगे पोस्टर्स, लिखा- सैल्यूट आकाश जी

Related posts