ब्लॉक प्रमुख चुनाव: नामांकन के दौरान हुई हिंसा पर राजनीति शुरू, अखिलेश बोले- मुख्यमंत्री खुद गुंडों को बढ़ावा दे रहे हैं, 2022 में बदलाव जरूर होगा

चैतन्य भारत न्यूज

उत्तरप्रदेश में ब्लॉक प्रमुख के चुनाव से पहले नामांकन के दौरान हिंसा हुई थी जिसे लेकर अब राजनीतिक बयानबाजी शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी के प्रमुख और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इस मामले को लेकर राज्य सरकार पर निशाना साधा है।

अखिलेश का पप्पू को जवाब

चुनावी हिंसा को लेकर अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि, प्रदेश में कोई भी सुरक्षित नहीं है, बीजेपी की सरकार को जनता ही सबक सिखाएगी। अखिलेश यादव ने पप्पू यादव के तंज का भी जवाब दिया और कहा, ‘हां, हमसे ना हो पाएगा। लेकिन उत्तर प्रदेश की जनता बदलाव चाहती है, यूपी में जल्द ही बदलाव की लहर चलेगी।’

बता दें शुक्रवार सुबह ही जन अधिकार पार्टी के नेता पप्पू यादव ने ट्वीट कर अखिलेश यादव पर निशाना साधा था। पप्पू यादव ने लिखा था कि, ‘बाबू अखिलेश यादव जी, आप से न हो पाएगा, सड़क पर संघर्ष! इतनी बड़ी पार्टी, इतना संसाधन हो तो BJP वालों की गुंडई और ढोंगी के दुःशासन का होश ठिकाने लगा देता! एक बहन का बीच सड़क पर चीरहरण और आप आराम से बैठे हो! जेल से निकलता हूं, संघर्ष के लिए पार्टी आउटसोर्स कर दीजिएगा! फिर दिखाते हैं।’

प्रदेश सरकार पर भी हमला

अखिलेश यादव ने कहा कि, ‘माताप्रसाद पांडेय जी को नामांकन के दौरान भारतीय जनता पार्टी के गुंडों का सामना करना पड़ा।’ अखिलेश यादव ने लखीमपुर की घटना को लेकर कहा कि, ‘हमारी बहन की गलती सिर्फ यही थी कि वो समर्थक थी। मुख्यमंत्री जी बताएं कि आखिर गुंडों को खुली छूट किसने दी है।’

अखिलेश यादव ने कहा कि, ‘भारतीय जनता पार्टी का नकाब उतर गया है, प्रशासन को इस घटना की भरपाई करनी चाहिए। जो भी हिंसा हुई है, ये मुख्यमंत्री के इशारे पर हुआ है, मुख्यमंत्री खुद गुंडों को बढ़ावा दे रहे हैं। जल्द ही उत्तर प्रदेश से इनका सफाया हो जाएगा। समाजवादी पार्टी के प्रमुख ने कहा कि इन लोगों को जनता ने हरा दिया है, सिर्फ मुख्यमंत्री अपनी कुर्सी बचा रहे हैं।’

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बीते दिन ब्लॉक प्रमुख चुनावों को लेकर नामांकन किया जा रहा था। इस दौरान प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में जमकर हिंसा हुई है। सिद्धार्थनगर, अंबेडकरनगर, सीतापुर, लखीमपुर खीरी समेत अन्य जिलों में गोलीबारी, हिंसा, तोड़फोड़ दर्ज हुई।

Related posts