‘बाघ’ पर कैमरा ट्रैप गिनीज रिकॉर्ड में शामिल, देश में ली गई 3.5 करोड़ तस्वीरें

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. बाघों के संरक्षण मामले में भारत ने एक नए तरीके का विश्व रिकॉर्ड अपने नाम किया। भारत में साल 2018 में बाघों पर किया गया सर्वे गिनीज वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो गया है। चार सालों में बाघों की संख्या में दोगुनी बढ़ोतरी के साथ ही ऑल इंडिया टाइगर एस्टीमेशन का कैमरा ट्रैप गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो गया है।


इस उपलब्धि को एक महान क्षण बताते हुए, केंद्रीय पर्यावरण मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने अपने ट्वीट में कहा कि वन्यजीव सर्वेक्षण के लिए वास्तव में यह एक महान क्षण और आत्मनिर्भर भारत का सबसे अच्छा उदाहरण है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई में भारत ने लक्ष्य से चार साल पहले ही बाघों की संख्या दोगुना करने का संकल्प पूरा किया है। दुनिया बाघों की कुल जनसंख्या का 70% भारत में है।

international tiger day,tiger,facts about tiger

द ऑल इंडिया टाइगर एस्टीमेशन की ओर से बाघों पर किया गया यह दुनिया का सबसे बड़ा सर्वे साबित हुआ है। यह 1 लाख 21 हजार 337 वर्ग किमी में किया गया। इसमें 26 हजार 760 स्थानों की अलग-अलग लोकेशन पर कैमरे लगाए गए। इनसे वन्यजीवों के 3.5 करोड़ से ज्यादा फोटो लिए गए। इनमें से 76 हजार 651 फोटो बाघ के और 51 हजार 777 फोटो तेंदुए के हैं।

सर्वे 2018 का, रिकॉर्ड की घोषणा अब हुई

यह सर्वे 2018 का है। इसे पिछले साल जारी किया गया था, जबकि वर्ल्ड रिकॉर्ड की घोषणा अब की गई है। इस सर्वे के मुताबिक देश में शावकों को छोड़कर बाघों की संख्या 2461 और कुल संख्या 2967 है। 2006 में यह संख्या 1411 थी। तब भारत ने इसे 2022 तक दोगुना करने का लक्ष्य तय किया था। भारत में सबसे ज्यादा 1492 बाघ तीन राज्यों मध्य प्रदेश, कर्नाटक और उत्तराखंड में हैं।

ये भी पढ़े…

अंतरराष्‍ट्रीय बाघ दिवस : जानिए बाघों के बारे में 15 रोचक और वैज्ञानिक तथ्य

मप्र: करोड़पति बनने के लिए बाघ के नाखून, दांत की पूजा करवा रहा था वनरक्षक, 4 लोग गिरफ्तार

पार्टनर की खोज में 2 हजार किमी तक पैदल चला बाघ, सोशल मीडिया पर वायरल हुई तस्वीरें

देश मे बाघों की संख्या बढ़कर हुई करीब 3 हजार, पीएम मोदी ने जारी की रिपोर्ट

Related posts