इस मंदिर में होती है अमिताभ बच्चन की पूजा, रोजाना पढ़ी जाती है बिग बी चालीसा और आरती, साल में 2 बार निकलती है तीर्थ यात्रा

चैतन्य भारत न्यूज

सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का आज 78वां जन्मदिन है। इस मौके पर देश-विदेश के लोग उनको बधाई दे रहे हैं। इस खास मौके पर हम आपको आज एक ऐसे मंदिर के बारे में बता रहे हैं जहां भगवान की नहीं बल्कि अमिताभ बच्चन की पूजा की जाती है। जी हां… ये दुनिया में बिग बी का इकलौता मंदिर बताया जा रहा है। इस मंदिर में रोज 6 मिनट की फिल्मी आरती गाकर बिग बी और उनके जूतों की पूजा होती है।

सुबह-शाम होती है आरती

कोलकाता के श्रीधर राय रोड़ पर बॉन्डेल गेट इलाके में स्थित एक मंदिर में अमिताभ की पूजा की जाती है। मंदिर में रोजाना आरती से पहले 9 पन्ने की खास अमिताभ चालीसा भी पढ़ी जाती है। इन सबके बाद प्रसाद भी मिलता है। मंदिर में अमिताभ की एक मूर्ति भी स्थापित की गई है इसके साथ ही वहां उनके सफेद जूते रखे हुए हैं जो बिग बी ने फिल्म ‘अग्निपथ’ में पहने थे। उनके फैंस रोजाना मूर्ति के सामने सुबह-शाम आरती करते हैं। इसके साथ ही मंदिर में ओम अमिताभ नम: मंत्र का पढ़ा भी किया जाता है।

इसलिए बनाया मंदिर

‘अक्स’ फिल्म में अमिताभ जिस कुर्सी पर वो बैठे दिखे थे, उसे भी मंदिर में लाकर रखा गया है। इसी कुर्सी पर अमिताभ की फोटो रखकर रोज पूजा-आरती होती है। अमिताभ बच्चन का मंदिर साल 2011 में बनाया गया था। मंदिर बनवाने वाले प्रशंसक संजय पटौदिया ने बताया कि, ‘हमारे गुरु फिल्म ‘कुली’ के दौरान बुरी तरह घायल हो गए थे। तब हमे लगा हम अपना गुरु खो देगें। उनके ठिक होने के बाद हमने उनका मंदिर बनवा दिया। यहां उनको भगवान की तरह पूजा जाता है।’

बनवाए 9 पन्ने की अमिताभ चालीसा

उन्होंने आगे बताया कि, ‘अमिताभ हमारे भगवान हैं। हमने पूरी श्रद्धा के साथ उनकी 9 पन्ने की अमिताभ चालीसा और आरती गीत भी बनाया है। 79 लाइन की इस चालीसा में दोहे और चौपाई के साथ बिग बी की उपलब्धियों और संघर्ष की बात लिखी है’ साथ ही संजय ने ‘अमिताभ नम:’ के नाम से संकट मिटाने वाला मंत्र भी तैयार किया है।

साल में 2 बार निकलती है अमिताभ तीर्थ यात्रा

मंदिर से साल में दो बार तीर्थ यात्रा निकाली जाती है। पहली अमिताभ के जन्मदिन यानी 11 अक्टूबर को और दूसरी 2 अगस्त को। ये तीर्थ यात्रा इस मंदिर से अमिताभ के मुंबई वाले घर तक जाती है। दरअसल, बिग बी ‘कुली’ फलम की शूटिंग के दौरान घायल होने के बाद 2 अगस्त को ठीक होकर घर वापस आए थे। इस दिन को उनके दूसरे जन्मदिन के तौर पर मनाते हैं। जब बिग बी को इस मंदिर के बारे में पता चला तो उनकी आंखों में आंसू आ गए। उन्होंने संजय पटौदिया को चिट्ठी लिखते हुए कहा- मुझे इंसान ही रहने दो, भगवान का दर्जा मत दो।

Related posts