शख्स ने अमिताभ बच्चन को कहा- ‘काश आप कोरोना से मर जाएं’, बिग बी ने गुस्से में फैंस को कहा- ‘ठोक दो साले को’

चैतन्य भारत न्यूज

मुंबई. बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इन दिनों कोरोना वायरस के चलते अस्पताल में भर्ती हैं। ऐसे में बिग बी के चाहने वाले और करीबी उनके जल्द ठीक होने की कामना कर रहे हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी लोग हैं जो इस दौरान अमिताभ बच्चन के लिए गलत शब्दों का इस्तेमाल कर रहे हैं। अमिताभ बच्चन ने भी गुस्से में हेटर को खरीखोटी सुनाई और अपने फैंस को कहा- ठोक दो साले को…

बता दें अमिताभ 11 जुलाई से मुंबई के नानावटी अस्पताल में भर्ती हैं। जिस समय अमिताभ बच्चन को प्यार, प्रार्थना और शुभकामनाओं की जरूरत है, ऐसे समय में सोशल मीडिया पर कुछ लोग हैं जोकि नफरत फैला रहे हैं। अस्पताल में कोरोना से जंग लड़ने के बीच अचानक बिग बी को यह मैसेज मिलता है कि ‘मेरी इच्छा है कि आप कोविड-19 से मर जाएं’ (I hope you die with this Covid)। ये मैसेज बिग बी को एसएमएस के जरिए मिला या सोशल मीडिया पर अब तक उन्होंने यह साफ नहीं किया है। लेकिन वो अपना गुस्सा रोक नहीं पाए और अपने ब्लॉग में पूरा आक्रोश उड़ेल कर रख दिया।

अपने ब्लॉग में अमिताभ ने लिखा- ‘वो मुझे कहते हैं…उम्मीद करता हूं तुम कोविड से मर जाओ… मिस्टर अनजान…तुमने अपने पिता का नाम भी नहीं लिखा…क्योंकि तुम्हें नहीं पता क‍ि तुम्हारे पिता कौन हैं? दो ही चीज हो सकती है…या तो मैं मर जाऊंगा या फिर जी जाऊंगा।’

‘अगर मैं मर जाऊंगा तो तुम किसी सेलिब्रिटी के नाम पर अपनी ट‍िप्पणी या भाषण नहीं लिख पाओगे…तरस आता है…तुम्हें नोट‍िस किए जाने के लिए जो तुमने लिखा उस कारण को जानकर, तुमने तो सीधे अमिताभ बच्चन से पंगा मोल ले लिया।’

‘भगवान की दया से अगर मैं जिंदा बचा और जी गया तो तुम्हें तूफान का सामना करना पड़ेगा, सिर्फ मेरे साथ ही नहीं बल्क‍ि बहुत तगड़े लेवल पर 90 प्लस मिलियन फॉलोअर्स से भी…मैंने अभी उन्हें नहीं बताया है…पर अगर मैं बच गया तो जरूर बताऊंगा।’

‘और तुम्हें बता दूं कि वे सेना हैं….वे पूरी दुनिया में हैं…पश्च‍िम से लेकर पूर्व तक….उत्तर से लेकर दक्ष‍िण तक…और वे सिर्फ इस पन्ने के EF नहीं हैं…ये विस्तार‍ित पर‍िवार एक पलक झपकते ही विनाशकारी पर‍िवार में तब्दील हो जाएगा…मैं बस इतना कहूंगा- ठोक दो साले को। तुम अपने ही इस आग में जल जाओ।’

फिर अमिताभ बच्चन ने गुस्से में हिंदी भाषा में भी कुछ ऐसा लिख डाला, लगा मानो कोई शाप दे रहे हों- ‘मारीच, अहिरावन, महिषासुर, असुर, उपनाम हो तुम; हमारा यज्ञ प्रारम्भ होते ही, तुम राक्षसों की तरह तड़पोगे, जान लो इतना की अब तुम ही केवल समाज की आवाज ना हो; चरित्र हीन, अविश्वासी, श्रद्धा हीन, लीचड़ तुम हो; जलो गलो पिघलो, बेशर्म, बेहया, निर्लज्ज, समाज कलंकी।’

शायद यह पहली बार है जब किसी हेटर के लिए अमिताभ ने ओपन लेटर लिखा है और इतना गुस्सा जाहिर किया हो।

Related posts