फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका में अब प्रतिमाओं पर फूट रहा लोगों का गुस्सा, कई ऐतिहासिक स्मारकों पर हमला

america

चैतन्य भारत न्यूज

अमेरिका में अश्वेत शख्स जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस हिरासत में मौत के बाद लोगों का गुस्सा शांत होते हुए नजर ही नहीं आ रहा है। अब लोगों का गुस्सा ऐतिहासिक प्रतिमाओं पर फूट रहा है। कई शहरों में क्रिस्टोफर कोलंबस की प्रतिमाओं को फिर निशाना बनाया गया है।

जानकारी के मुताबिक, प्रदर्शनकारियों ने जेफरसन डेविस की प्रतिमा को तोड़ दिया। अमेरिका के रिचमंड, सेंट पॉल और बोस्टन शहरों में बुधवार को इन प्रतिमाओं को तोड़ने के मामले सामने आए। बता दें एक दिन पहले प्रदर्शनकारियों ने रिचमंड में कोलंबस की वर्ष 1927 में स्थापित प्रतिमा उखाड़कर झील में फेंक दी थी।

कोलंबस की दस फीट ऊंची प्रतिमा धराशाई

मिनेसोटा प्रांत की राजधानी सेंट पॉल में प्रदर्शनकारियों ने इतालवी खोजकर्ता कोलंबस की दस फीट ऊंची कांस्य प्रतिमा को तोड़ डाला। एक प्रदर्शनकारी का कहना है कि, ‘यह सही काम है और इसे करने का यह सही वक्त भी है।’ बता दें अमेरिकी सामाजिक कार्यकर्ता कोलंबस को सम्मानित किए जाने को लेकर लंबे समय से विरोध कर रहे हैं। उनका कहना है कि कोलंबस द्वारा अमेरिका की खोज के चलते ही उपनिवेश और उनके पूर्वजों का नरसंहार हुआ था। बता दें कोलंबस साल 1492 में भारत की खोज के लिए निकले थे, लेकिन उन्होंने गलती से अमेरिकी महाद्वीप की खोज कर दी थी।

फ्लॉयड के भाई फिलोनेईस संसदीय समिति में पेश हुए

बुधवार को फ्लॉयड के भाई फिलोनेईस अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की न्याय मामलों की समिति के सामने पेश हुए। उन्होंने समिति से नस्लवाद पर रोक लगाने की अपील की। बता दें यह समिति फ्लॉयड की मौत के बाद भड़के विरोध प्रदर्शनों को लेकर सामाजिक और राजनीतिक पहलुओं पर कार्य करेगी।

Related posts