72वां सेना दिवस आज, तीनों सेना प्रमुखों ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर शहीदों को दी श्रद्धांजलि

army day

चैतन्य भारत न्यूज

नई दिल्ली. हर साल 15 जनवरी को ‘थल सेना दिवस’ मनाया जाता है। इस खास अवसर पर चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत के साथ तीनों सेनाओं के प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे, एयरचीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया और नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह ने आज राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इस दौरान सेना के कई वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे।


पीएम मोदी ने किया सलाम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर देश के जवानों के शौर्य और पराक्रम को सलाम किया। उन्होंने ट्वीटर पर लिखा कि, ‘भारत की सेना मां भारती की आन-बान और शान है। सेना दिवस के अवसर पर मैं देश के सभी सैनिकों के अदम्य साहस, शौर्य और पराक्रम को सलाम करता हूं।’

थलसेना प्रमुख ने दी शुभकामनाएं

थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने सेना के सभी सैनिकों, परिवारों, भारतीय सशस्त्र बल, भूतपूर्व सैनिकों, वीर नारियों को थल सेना दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। साथ ही उन्होंने सभी को सफलता, यश और गौरव की शुभकामनाएं भी दी।

1776 में हुआ था भारतीय सेना का गठन

बता दें आज भारत का 72वां सेना दिवस है। आज ही के दिन साल 1949 में भारत के अंतिम ब्रिटिश कमांडर-इन-चीफ जनरल फ्रांसिस बुचर के स्थान पर तत्कालीन लेफ्टिनेंट जनरल के एम करियप्पा भारतीय सेना के कमांडर इन चीफ बने थे। साल 1776 में ईस्ट इंडिया कंपनी ने कोलकाता में भारतीय सेना का गठन किया था। भारतीय थल सेना की शुरुआत ईस्ट इंडिया कंपनी की सैन्य टुकड़ी के रुप में हुई थी। फिर बाद में यह ब्रिटिश भारतीय सेना बनी और अंत में इसे भारतीय थल सेना का नाम दिया गया। फिलहाल भारतीय सेना की 53 छावनियां और 9 आर्मी बेस हैं।

ये भी पढ़े…

भारतीय नौसेना दिवस : विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी है भारतीय नौसेना, जानें कैसे हुई इसकी स्थापना

सशस्त्र सेना झंडा दिवस : देश के लिए हंसते-हंसते जान देने वालों को याद करने का दिन, जानें इसका इतिहास और महत्व

गणतंत्र दिवस की परेड में दिखेगी उप्र, मप्र समेत 16 राज्यों की झांकियां, इन तीन राज्यों को नहीं मिली अनुमति

 

Related posts