आतंकी हमला: गोलीबारी के बीच नाना के शव पर पर बैठा 3 साल का मासूम, हाथ में खून से भीगे हुए बिस्किट थे

चैतन्य भारत न्यूज

सोपोर. जम्मू कश्मीर के सोपोर में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) की पेट्रोलिंग टीम पर बुधवार सुबह आतंकियों ने हमला कर दिया था। इस हमले में सेना का एक जवान शहीद हो गया जबकि 3 जवान गंभीर रूप से जख्मी हो गए थे। फायरिंग में एक आम नागरिक की भी मौत हो गई है। पुलिस ने गुरुवार को बयान जारी कर बताया कि हमले के पीछे (Lashkar-e-Taiba) उस्मान के पाकिस्तानी आतंकवादी हैं। हमले की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसमें एक बच्चा खून से लथपथ शव पर बैठा हुआ है।

तस्वीर में नजर आ रहा नागरिक सोपोर का ही है, जिनकी हमले में मौत हो गई। हमले में मारे गए आम नागरिक की पहचान 65 वर्षीय बशीर अहमद खान के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक, मृतक अपने नाती को सुबह-सुबह उत्तरी कश्मीर के श्रीनगर से सोपोर इलाके तक एक लंबी ड्राइव के लिए ले जा रहे थे। इसी बीच वे अपने एक प्रोजेक्ट में एक निर्माण कार्य की प्रगति की देखरेख करने वाले थे। लेकिन इससे पहले ही उनकी गोली लगने से मौत हो गई।

बशीर अहमद खान की मौत के बाद उनका 3 साल का नाती नाना के शव के पास बैठकर रोता रहा। वह सिर्फ यही कह रहा था कि उसे मां के पास जाना है। फिर सीआरपीएफ की नजर उस बच्चे पर पड़ी और उन्होंने इशारा कर बच्चे को अपने पास बुलाया। इसके बाद सीआरपीएफ जवान बच्चे को गोद में लेकर सुरक्षित स्थान पर ले गए।

एक आधा खाया बिस्किट, खून से सना शर्ट और आंखों में आंसू

सुरक्षा बल ने मासूम को वहां से हटाया और अपने साथ जिप्सी में बैठाकर ले गए। मासूम की जो तस्वीर वायरल हो रही है, उसमें दिख रहा है कि बच्चे के हाथ में एक रूमाल, एक आधा खाया हुआ बिस्किट, खून से सना हुआ शर्ट और आंखों से आंसू है।

‘मुझे दादा के पास जाना है’

मासूम का एक वीडियो भी वायरल हो रही है, जिसमें दिख रहा है कि मासूम रोते हुए जवानों से कह रहा है कि मुझे नाना के पास जाना है। तब सुरक्षा बल के जवान कह रहे हैं कि हां दादा के पास ले चलेंगे। जवान रोते हुए मासूम को चुप कराने की कोशिश कर रहे हैं।

Related posts